Wednesday, September 1, 2021

When staffs of the U.P.P.C.L. cannot talk with thieves of the electricity, then how can they stop theft of electricity which is rampant

 



संदर्भ संख्या : 40019921017223, दिनांक - 01 Sep 2021 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019921017223

आवेदक का नाम-Kamlesh Singhविषय-शिकायत संख्या:-40019921016206 आवेदक का नाम-Kamlesh Singh अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत कार्यालय स्तर पर लंबित शिकायत संख्या:-40019921016458 आवेदक का नाम-Kamlesh Singh अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत कार्यालय स्तर पर लंबित Registration Number UPPCL/R/2021/60475 Name Kamlesh Singh Date of Filing 20/08/2021 Status REQUEST TRANSFERRED TO OTHER PUBLIC AUTHORITY as on 26/08/2021 Details of Public Autority :- PURVANCHAL VIDYUT VITRAN NIGAM LIMITED. vide registration number :- PUVNL/R/2021/80120 respectively. श्री मान जी उत्तर प्रदेश सरकार का विद्युत् विभाग कहता है की विद्युत् चोरी की सूचना दीजिए हम इनाम देंगे और इनके कर्मचारी कहते है की हम विद्युत् चोरी से मना नहीं करेंगे क्योकि विद्युत् चोरी करने वाले दबग है श्री मान जी इनाम की बात दूर है सिर्फ पब्लिक की सूचना पर कार्यवाही हो तो विद्युत् चोरी जिसको विभाग के बड़े अधिकारी शर्म की वजह से लाइन लॉस कहते है ९० प्रतिशत रुक जाय कहा कितनी चोरी हो रही है क्या विभाग के कर्मचारिओं को नहीं मालुम है हर एक चोरी का हिसाब है किन्तु जब जेब गर्म हो तो क्या जरूरत है चोरी के पचड़े में पड़ने की विद्युत् चोरी से नुकसान तो सार्वजनिक होता है जो किसी न किसी रूप में निरीह जनता पर पड़ता है जिसको वह भोगती है किन्तु उन लोगो की क्या जो अपनी मोटी मोटी तनख्वाह से संतुष्ट नहीं है बिजली की चोरी होने देते है उपरोक्त प्रकरण में छह बार अधिशाषी अभियंता से बात की गई उन्होंने तीन बार अपने उप खंड अधिकारी से बात किया और इस तरह से एक हप्ते बीत गया किन्तु परिणाम सिफर रहा क्योकि जब उप खंड अधिकारी द्वारा लाइनमैन से बात किया गया तो बताया गया की विद्युत् चोरी करने वाले दबंग है उन्हें मना करने पर वे जो मना करने जाता है उसे पीटने लगते है इसलिए अवर अभियंता, अभियंता और अधिशाषी अभियंता सभी दर गए है क्योकि दबगों का जो भय है श्री जो योगी आदित्यनाथ मुख्य मंत्री उत्तर प्रदेश शासन सुशासन की दोहाई देते उत्कृष्ट न्याय व्यवस्था की बात करते है उनके शासन में खुद विद्युत् बिभाग के अधिकारी और कर्मचारी भयाक्रांत है और विद्युत् चोरी करने वालो से वात करने से भी कतराते है Who is creating terror in the mind of the public? Think about the gravity of the sitution that a common man raising voice against the evil doers in pursuing his fundamental duties as prescribed under Article 51 A of the constitution of India but these coward public staffs are so frightened that they can not talk to them that please stop the theft of electricity because it is unlawful and you should abide by the the law of land. No staff of the department of the Uttar Pradesh power corporation limited visited the site of the theft of the electricity.

विभाग -विद्युतशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-01-10-2021शिकायत की स्थिति-

स्तर -जनपद स्तरपद -अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 01-09-2021 01-10-2021 अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत अनमार्क