google-site-verification: google652ee2e18330a276.html Yogi as anti-corruption crusader

Monday, 14 June 2021

According to police, allegations are against sub divisional magistrate Sadar consequently it would be expedient to refer it to D.M.

 


Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2021/0191083

Grievance Concerns To
Name Of Complainant
Vineet Maurya
Date of Receipt
15/03/2021
Received By Ministry/Department
Prime Ministers Office
Grievance Description
Redressal of the grievance is done on the basis of the merit of the contents of the submitted grievance and when the wrongdoing was made by the sub divisional magistrate Sadar then how the grievances can be redressed by the tehsildar Sadar who is the subordinate of the sub divisional magistrate Sadar? Whether the Government of Uttar Pradesh takes action against the land mafia in such a 3rd grade standard manner?
संदर्भ संख्या : 40019920025864 , दिनांक - 14 Mar 2021 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या:-40019920025864 आवेदक का नाम-Vineet Kumar Maurya श्री मान जी न्यायिक और प्रशासनिक निर्णयों का आधार तर्क होता है श्री मान जी प्रथम पेज संलग्नक का तहसीलदार सदर की आख्या दिनांक ०२ मार्च २०२१ है जिसमे उनका निस्तारण का आधार पुलिस द्वारा मामले में दबाव बना कर समझौता कराना और मामला न्यायालय में विचाराधीन है इसलिए हस्तक्षेप से इंकार है महोदय संलग्नक का द्वितीय पेज क्षेत्राधिकारी सदर की आख्या दिनांक २० दिसंबर २०२० जिसके अनुसार जमीन की रजिस्ट्री एक तीसरे पार्टी को की गई जिसकी मालिकाना तीसरी पार्टी को पुलिस और तहसील में मिलजुल कर किया है गौर करने की बात यह है की मालिकाना का बिबाद दो पक्षों के बीच है जब की तहसील द्वारा तीसरे पक्ष को मालिकाना हक़ प्रदान करके पुलिस के माध्यम से जमीन का कब्ज़ा करा दिया गया और पुलिस द्वारा यह दबाव उपजिलाधिकारी सदर की वजह से बनाया गया अब प्रश्न यह है की भू माफियाओं के दबाव में आकर उपजिलाधिकारी सदर द्वारा नियम विरुद्ध अराजकता पूर्ण कार्य क्यों किया गया प्रार्थी तो न्यायालय के कार्यक्षेत्र में अनधिकृत प्रवेश करने के लिए उपजिलाधिकारी सदर के विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही की मांग करता है साथ ही एक उच्च स्तरीय जांच जो ईमानदारी से प्रशासन और भू माफिया के गठजोड़ को अनावरण करे जिनके समक्ष न्यायालय भी नपुंसक बन गया है श्री मान जी महत्वपूर्ण तथ्य यह है की उपजिलाधिकारी सदर द्वारा सिविल न्यायालय की कार्यवाही में अनावश्यक हस्तक्षेप करने और अधिकारिता को दातो तले लेना कौन सा कैनन लॉ न्यायोचित ठहरा रहा है श्री मान जी संलग्नक संलग्नक के पेज ३ व ४ देखे दिनांक20-02-2021 को फीडबैक:-महोदय अविवेक पूर्ण निस्तारण केवल शिकायतों की संख्या को बढाता है दिनांक २५०१२०२१ की रिपोर्ट उपजिलाधिकारी की और से प्रस्तुत किया गया है जिसमे उन्होंने यह कह कर मुक्ति पा ली की मामला पुलिस से सम्बंधित है क्यों की पुलिस द्वारा दबाव बना कर सुलह कराया गया है जब की प्रार्थी द्वारा निवेदन का सारांश कुछ इस प्रकार है क्षेत्राधिकारी सदर की रिपोर्ट दिनांक २० दिसंबर २०२० के अनुसार उपजिलाधिकारी के आदेश का पालन करने के क्रम में जमीन का सीमांकन पुलिस द्वारा निश्चित कराया गया और अपराधिक दंड संहिता की धारा १०७१६ का उपयोग पक्षों पर लगा करके पुलिस द्वारा शांति कायम किया गया है यह कैसे न्यायोचित है क्या उत्तर प्रदेश सरकार इस आराजकता को रोकेगी जब मुकदमे का निर्णय सक्षम सिविल न्यायालय में मामले से सम्बंधित जमीन के टाइटल से सम्बंधित लंबित है तो कैसे विपक्ष द्वारा तीसरे पक्ष को जमीन की रजिस्ट्री कर दी जो की संलग्न दस्तावेजों से स्पस्ट है सरकारी तंत्र में कहा ईमानदारी है यदि जमीन का बिबाद न्यायालय में लंबित है तो कैसे प्रशासनिक अधिकारी और पुलिस मिलकर जमीन का मालिकाना हक़ तीसरे पक्ष को दे सकते है अर्थात उपजिलाधिकारी महोदय को आंग्ल भाषा का थोड़ा भी ज्ञान नहीं है इसलिए उन्होंने वही दिसंबर की रिपोर्ट को जनवरी के आख्या में दुहराया है जब की यह प्रकरण खुद उपजिलाधिकारी को ही बिधि विरुद्ध कार्यवाही करने का दोषी मानता है और आरोप खुद उपजिलाधिकारी के विरुद्ध है क्यों की पुलिस की कार्यवाही उपजिलाधिकारी के आज्ञा के अधीन है इसलिए पुलिस दोषी नहीं है बल्कि न्यायाल के क्षेत्राधिकार में उपजिलाधिकारी द्वारा अतिक्रमण किया गया है भू माफिया से साथ मिलकर जो की भ्रष्टाचार को दर्शाता है
Grievance Document
Current Status
Case closed   
Date of Action
03/04/2021
Remarks
सम्बंधित आख्या अपलोड है आख्या अपलोड कर सेवा में सादर प्रेषित है आख्या अपलोड कर सेवा में सादर प्रेषित है
Rating
Poor
Rating Remarks
Dear Customer, Thx for INB txn of Rs.10 frm A/c X1675 to UP CYBER T. Ref IK0BBYIHX4 on 15Apr21. If not done, fwd this SMS to 9223008333 to block INB or call 1800111109-SBI Dear Customer, OTP to approve transaction of Rs. 10.00 from your A/c No. ending 1675 to UP CYBER TREASURY is 96029555. Do not share with प्रार्थी को वांछित सूचना Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2021/0191083 Grievance Concerns To Name Of Complainant Vineet Maurya Date of Receipt 15/03/2021 Received By Ministry/Department Prime Ministers Office. More detail is attached to communique. This grievance has been disposed of by concerned mandate with the comment that report is uploaded with due respect. 1-Please provide the uploaded report by concerned mandate regarding aforementioned registration number. 2-Please provide the action report in case the public staff says the report uploaded but fraudulently not uploaded by him. 3-Action taken in aforementioned grievance for fraudulent activity.
Officer Concerns To
Officer Name
Shri Bhaskar Pandey
Officer Designation
Joint Secretary
Contact Address
Chief Minister Secretariat Room No.321 U.P. Secretariat, Lucknow
Email Address
bhaskar.12214@gov.in
Contact Number
2226350

Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2021/0257686

Grievance Concerns To
Name Of Complainant
Vineet Kumar Maurya
Date of Receipt
15/04/2021
Received By Ministry/Department
Prime Ministers Office
Grievance Description
The matter concerns the corruption of office of sub divisional magistrate Sadar District Mirzapur who is running away from providing relevant reports on the grievances submitted on the PMO portal quite obvious from his fraudulent approach. Tehsil Sadar is acting by colluding with the Land Mafia root cause to run away from providing consistent report in the grievances.
प्रार्थी द्वारा जनसूचना आवेदन शुल्क निम्न ट्रांज़ैक्शन द्वारा किया गया
Dear Customer, Thx for INB txn of Rs.10 frm A/c X1675 to UP CYBER T. Ref IK0BBYIHX4 on 15Apr21. If not done, fwd this SMS to 9223008333 to block INB or call 1800111109-SBI
Dear Customer, OTP to approve transaction of Rs. 10.00 from your A/c No. ending 1675 to UP CYBER TREASURY is 96029555. Do not share with anyone. -SBI
प्रार्थी को वांछित सूचना
Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2021/0191083
Grievance Concerns To Name Of Complainant Vineet Maurya
Date of Receipt 15/03/2021 Received By Ministry/Department Prime Ministers Office. More detail is attached to communique.
This grievance has been disposed of by concerned mandate with the comment that report is uploaded with due respect.
1-Please provide the uploaded report by concerned mandate regarding aforementioned registration number.
2-Please provide the action report in case the public staff says the report uploaded but fraudulently not uploaded by him.
3-Action taken in aforementioned grievance for fraudulent activity.
Grievance Document
Current Status
Case closed
Date of Action
13/06/2021
Remarks
अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित महोदय, जांच आख्या संलग्न कर सादर सेवा में प्रेषित है महोदय , आख्या सादर अवलोकनार्थ प्रेषित है आख्या संलग्न महोदय, जाँच आख्या सादर अवलोकनार्थ प्रेषित है
Reply Document
Rating
Poor
Rating Remarks
Since the sub divisional Magistrate Sadar is a district level officer and any action against him will require prior approval of District Magistrate Mirzapur so police of district Mirzapur considers that it would be more appropriate if irregularities committed by the sub divisional magistrate may be carried out under the monitoring of District Magistrate Mirzapur. But it would be proper if action may be taken against the wrongdoer promptly.
Officer Concerns To
Officer Name
Shri Bhaskar Pandey
Officer Designation
Joint Secretary
Contact Address
Chief Minister Secretariat Room No.321 U.P. Secretariat, Lucknow
Email Address
bhaskar.12214@gov.in
Contact Number
2226350

Whether government of Uttar Pradesh will ever provide widow pension to tribal lady Gujarati Devi as corruption rampant in dept.

 









संदर्भ संख्या : 40019921009694 , दिनांक - 14 Jun 2021 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019921009694

आवेदक का नाम-Yogi M P Singhविषय-An application under Article 51 A of the constitution of India on behalf of tribal lady Gujarati Devi. Following an application submitted by the aggrieved applicant Gajarati Devi itself to seek the information from the office of Directorate, Women welfare Lucknow, Uttar Pradesh concerned with anarchy in his office which detail is attached. Why is the PIO directorate women welfare running away from providing information and the FAA is not taking any action against him? Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2021/0200788 Grievance Concerns To Name Of Complainant Yogi M P Singh Date of Receipt 18/03/2021 Received By Ministry/Department Prime Ministers Office Remarks-निस्तारण आख्या अपलोड है प्रार्थना पत्र के क्रम मे अवगत कराना है कि प्रथिनी का डाटा स्वीकृति हेतु निदेशालय स्तर पर प्रेषित कर दिया गया है स्वीकृति कि प्रक्रिया पूर्ण हो जाने पर प्राथिनी के सम्बधित बैंक खाते मे पी०एफ्०एम्०एस्० पोर्टल के माध्यम धनराशि प्रेषित हो जायेगी उक्त से अवगत होने का कष्ट करे Aforementioned information was made available by the probationary officer Mirzapur and now again he should make available the status of the application of the Gujarati Devi as approval pending at the level of Directorate and being monitored by his office. 

विभाग -महिला कल्याण विभागशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-14-07-2021शिकायत की स्थिति-

स्तर -जनपद स्तरपद -जिला प्रोबेशन अधिकारी

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 14-06-2021 14-07-2021 जिला प्रोबेशन अधिकारी-मिर्ज़ापुर,महिला कल्याण विभाग अनमार्क

Preeti Singh <preetisinghgaharwar@gmail.com>

Appeal submitted on 22/04/2021 on the R.T.I. Portal of the government of Uttar Pradesh but F.A.A. directorate women welfare Lucknow did not take any action.

Preeti Singh <preetisinghgaharwar@gmail.com>12 June 2021 at 08:02
To: piodir.mk@gmail.com, pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, supremecourt <supremecourt@nic.in>, urgent-action <urgent-action@ohchr.org>, cmup <cmup@up.nic.in>, csup <csup@up.nic.in>, hgovup <hgovup@up.nic.in>, sec.sic@up.nic.in, uphrclko@yahoo.co.in
Why PIO directorate women welfare is running away from providing information and FAA is not taking any action against him?
Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2021/0200788 Grievance Concerns To Name Of Complainant Yogi M P Singh Date of Receipt 18/03/2021 Received By Ministry/Department Prime Ministers Office Remarks-निस्तारण आख्या अपलोड है प्रार्थना पत्र के क्रम मे अवगत कराना है कि प्रथिनी का डाटा स्वीकृति हेतु निदेशालय स्तर पर प्रेषित कर दिया गया है स्वीकृति कि प्रक्रिया पूर्ण हो जाने पर प्राथिनी के सम्बधित बैंक खाते मे पी०एफ्०एम्०एस्० पोर्टल के माध्यम धनराशि प्रेषित हो जायेगी उक्त से अवगत होने का कष्ट करे
1-Please provide the noting and status regarding approval as aforementioned.

Registration Number DIRWD/R/2020/80003 Name Gujrati Devi Date of Filing 09/10/2020 The aforementioned matter concerns the probationary officer Mirzapur but you have sent it to District Sonebhadra.
2-Please provide the reason for forwarding the aforementioned matter to probationary officer Sonbhadra while it was closely connected to the working of probationary officer Mirzapur.

3-Provide name and designation detail of staff forwarded aforementioned R.T.I. Communique to probationary officer Sonbhadra.
For more detail visit on the following link to be apprised with the quantum of corruption in the working of the public functionaries of the government of Uttar Pradesh.


खुदा भी आसमाँ से जब जमी पे देखता होगा |

             इस मेरे प्यारे देश को क्या हुआ सोचता होगा||

This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness and chaos arbitrarily by making the mockery of law of land? There is need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy. For this, your applicant shall ever pray for you, Hon’ble Sir.

Date-12/06/2021                Yours sincerely

                                                                           Gujrati Devi, Registrations number 316210584302, Village Kalwari, Post Rehi, Village panchayat Rajapur, District Mirzapur, Uttar Pradesh.
[Quoted text hidden]

If L.D.A. is seeking documents from Dinesh Pratap Singh, then it must provide list in sequence so that verification may be carried out

 








संदर्भ संख्या : 40015721040389 , दिनांक - 14 Jun 2021 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40015721040389

आवेदक का नाम-Dinesh Pratap Singhविषय-संदर्भ संख्या : 40015721022420 , दिनांक - 14 Jun 2021 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण :शिकायत संख्या:-40015721022420 आवेदक का नाम-Dinesh Pratap Singh 1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 27-03-2021 11-04-2021 उपाध्यक्ष-लखनऊ,विकास प्राधिकरण C-श्रेणीकरण 2 आख्या मंडलायुक्त 31-05-2021 07-06-2021 उपाध्यक्ष-लखनऊ,विकास प्राधिकरण कृपया प्रकरण का गंभीरता से पुनः परीक्षण कर नियमानुसार कार्यवाही करते हुए 07 दिवस में आख्या उपलब्ध कराए जाने की अपेक्षा की गई है कार्यालय स्तर पर लंबितOngoing property officer, Snigdha Chaturvedi, Lucknow Development Authority in the aforementioned matter through its letter number 1184 dated 18/05/2021 attached as first page of PDF documents to this representation seeking documents concerned with allotment but did not mention explicitly which documents she needs. As quite obvious from the attached order passed by the Lucknow bench of the High court of Judicature at Allahabad title of the government plot allotted to opposition had to be decided by the competent court or authority which is yet to be decided so paper of registry is not available to applicant but all other documents of the allotted land to the opposition mentioned in the report of property officer of Lucknow Development Authority exchanged during the purchase of land is available in original form which is voluminous. Therefore for the convenience of public authority Lucknow Development Authority and applicant as well, competent property officer Mrs Snighdha Chaturvedi may provide the list of  sequence of original documents which she needs to verify so that applicant may physically appear in her office to comply the authoritative order passed as it is corona virus pandemic period so useless frequent visit to the office of the public authority will not cultivate constructive result. O God please be kind to us. 

Department -विकास प्राधिकरणComplaint Category -

नियोजित तारीख-29-06-2021शिकायत की स्थिति-

Level -विकास प्राधिकरणPost -उपाध्यक्ष

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 14-06-2021 29-06-2021 उपाध्यक्ष-लखनऊ,विकास प्राधिकरण अनमार्क

संदर्भ संख्या : 40015721022420 , दिनांक - 14 Jun 2021 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40015721022420

आवेदक का नाम-Dinesh Pratap Singhविषय-Order passed by the Lucknow bench of the High court of Judicature at Allahabad in the Writ Petition Number 135 HC Year 2006 as follows It is simply ordered that the respondent number 4 to 7 shall open the lock of the staircase so that Smt Anuradha Singh the petitioner may come out of the house and take the proper and appropriate remedy in the competent court and after that, she may have the liberty to go anywhere. Since it is not a case in the strict sense of illegal detention, therefore, no direction can be issued to the respondent to produce the detenue in the court and allow her to live free at her home but since she can not take necessary steps for taking the remedy in the competent court, therefore it is simply ordered that the alleged detenue Smt Anuradha Singh shall be allowed to go out of the house and respondent number 4 to 7 shall open the lock of the door and open the door so that Smt Anuradha Singh may come out and take appropriate remedy. Dated 07032006 Signed by the concerned Honourable Justices of Division bench of Lucknow.महोदय उपरोक्त आदेश प्रत्यावेदन के साथ संलग्न है | संलग्नक के प्रथम व द्वितीय पेज में प्रार्थी द्वारा दिनांक १५/ ०३ /२००७ तथा २६/०६ /२००७ को विपक्षियों के पक्ष में निबंधन किये जाने का विरोध किया गया जिसके कारण दिनांक १३/०८/२००७ को लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा अपने तत्कालीन संपत्ति अधिकारी के. के. सिंह द्वारा नोटिस जारी किया गया | पक्ष विपक्ष को सुनने के लिए उपरोक्त अधिकारी द्वारा तिथि दिनांक २५/०८/२००७ समय प्रातः ११ बजे तय किया | अफ़सोस की बात है की पक्ष अर्थात प्रार्थी दिनेश प्रताप सिंह उपस्थित हुए किन्तु पांचो विपक्ष उपस्थित नहीं हुए | प्रार्थी निम्न उक्त बिंदुओं को पुनः श्री मान के संज्ञान में लाना चाहता है | १- क्या बिपक्षी टाइटल बिबाद को निबंधन के समय तक सक्षम न्यायालय के माध्यम से हल कर चुके थे | २- सक्षम न्यायालय का विवरण उपलब्ध कराये | ३- सक्षम न्यायालय द्वारा पारित आदेश की प्रति उपलब्ध कराये | ४-श्री मान जी यदि मूल दस्तावेज प्रार्थी के पास है तो लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा निबंधन की कार्यवाही किस आधार पर सम्पादित की गयी | ५- प्रार्थी के उपरोक्त प्रत्यावेदन पर तत्कालीन संपत्ति अधिकारी के. के. सिंह द्वारा क्या निर्णय लिया गया उसकी प्रति उपलब्ध कराया जाय |

विभाग -विकास प्राधिकरणशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-07-06-2021शिकायत की स्थिति-

स्तर -विकास प्राधिकरणपद -उपाध्यक्ष

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक24-05-2021 को फीडबैक:-आवेदक द्वारा बताया गया है की दिए गए समाधान से संतुष्ट नहीं है भी तक शिकायत पर कोई कार्यवाही नही की गयी है आवेदक रिपोर्ट से सहमत नही है ,कृपया समस्या का समाधान पुनःसे जाँच करके कार्यवाही की जाए

फीडबैक की स्थिति -सन्दर्भ पुनर्जीवित

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 27-03-2021 11-04-2021 उपाध्यक्ष-लखनऊ,विकास प्राधिकरण C-श्रेणीकरण

2 आख्या मंडलायुक्त( ) 31-05-2021 07-06-2021 उपाध्यक्ष-लखनऊ,विकास प्राधिकरण कृपया प्रकरण का गंभीरता से पुनः परीक्षण कर नियमानुसार कार्यवाही करते हुए 07 दिवस में आख्या उपलब्ध कराए जाने की अपेक्षा की गई है कार्यालय स्तर पर लंबित


Sunday, 13 June 2021

Dereliction of duty reported to senior rank of officers of police department in the matter of Sudarshan Maurya

 




संदर्भ संख्या : 40019921009611 , दिनांक - 13 Jun 2021 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019921009611

आवेदक का नाम-Sudarshan Mauryaविषय-Sir justice delayed is justice denied. Applicant is pursuing the matter diligently,  but the concerned police personnel is not taking the matter seriously. Applicant was provided public aid, but contractor destroyed the efforts of not only applicant but our government as well. O God save us from clutches of this anarchy.संदर्भ संख्या : 40019921009345 , दिनांक - 09 Jun 2021 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या:-40019921009345आवेदक का नाम-Sudarshan Mauryaविषय-Police instead of carrying out investigation in transparent and accountable manner on the application of the applicant submitted before the in charge of Chauki Mandi Samiti under Kotwali Katara District Mirzapur quite obvious from page 1 and 2 of the attached annexure, they are showing the application of Yakoob Ansari without address of the applicant attached as page 3 to this PDF attachment to this representation submitted on this august portal of the government. Please direct the police concerned to carry out an enquiry in a transparent and accountable manner instead of  putting carpet on the entire matter through cryptic working style. Think about the gravity of situation that police concerned took application of Yakoob Ansari without verifying address which means the role of police concerned is under cloud.  Description of room constructed by the contractor under controversy.अभी 2 महीने पहले हम ने एक 22'×35'  फीट का हाल बनवाया दरी का कार्य करने के लिए कर्ज लेकर रोजी रोटी के लिए लेकिन ठेकेदार की लापरवाही से हमारे नवनिर्मित हाल का छत का एक लिटंर 10 जगह से और दुसरा लिंटर 8 जगह से क्रेक कर गया । हम  इन्जीनियर को बुला कर दिखवाए तो मालुम हुआ की ठेकेदार की लापरवाही से सरिया और बीम का लटक कम बनाने की वजह से क्रैक हुआ है । हमने सीमेन्ट, सरिया, बालू सभी उच्च क्वालिटी का लगाया ठेकेदार की वजह से इतना बड़ा नुकसान हो गया क्या करें की कानून के दायरे में आ जाय और हम 7 लाख के नुकसान से बच जाए सलाह दे और हेल्प करें इस आदमी का नाम याकूब अंसारी है यह जिला - मीरजापुर में मकान बनाने का ठेकेदार है रहने वाला बिहार का है हमने इस आदमी से अपना मकान बनवाया इस ठेकेदार की लापरवाही से मेरे मकान का 2 बीम  2 महीने के अन्दर एक बीम 10 जगह से और दुसरा बीम  8 जगह से क्रैक हो गया और मकान गिरने के कगार पर पहचान गया है । पुलिस उच्चाधिकारियों  से निवेदन है कि इस ठेकेदार ने  मकान बनाने का कार्य बहुत ही लापरवाही से किया मेरा  मकान कभी भी गिर सकता है और मेरा  पैसे की और जान - माल  की हानि हो सकती है मेरे  1 बिस्वा के मकान में रू 8 लाख का नुकसान हो गया  हे ईश्वर मेरे और मेरे परिवार की रक्षा करे मेरा नाम-  सुदर्शन मौर्य पता- सोहता अडडा जंगीरोड, मीरजापुर  मो- 9455024500 विभाग -पुलिसशिकायत श्रेणी - नियोजित तारीख-09-07-2021शिकायत की स्थिति- स्तर -क्षेत्राधिकारी स्तरपद -क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त

विभाग -पुलिसशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-20-06-2021शिकायत की स्थिति-

स्तर -थाना स्तरपद -थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षक

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 13-06-2021 20-06-2021 थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षक-कोतवाली कटरा,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस अनमार्क


संदर्भ संख्या : 40019921009345 , दिनांक - 13 Jun 2021 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019921009345

आवेदक का नाम-Sudarshan Mauryaविषय-Police instead of carrying out investigation in transparent and accountable manner on the application of the applicant submitted before the in charge of Chauki Mandi Samiti under Kotwali Katara District Mirzapur quite obvious from page 1 and 2 of the attached annexure, they are showing the application of Yakoob Ansari without address of the applicant attached as page 3 to this PDF attachment to this representation submitted on this august portal of the government. Please direct the police concerned to carry out an enquiry in a transparent and accountable manner instead of  putting carpet on the entire matter through cryptic working style. Think about the gravity of situation that police concerned took application of Yakoob Ansari without verifying address which means the role of police concerned is under cloud.  Description of room constructed by the contractor under controversy.अभी 2 महीने पहले हम ने एक 22'×35'  फीट का हाल बनवाया दरी का कार्य करने के लिए कर्ज लेकर रोजी रोटी के लिए लेकिन ठेकेदार की लापरवाही से हमारे नवनिर्मित हाल का छत का एक लिटंर 10 जगह से और दुसरा लिंटर 8 जगह से क्रेक कर गया । हम  इन्जीनियर को बुला कर दिखवाए तो मालुम हुआ की ठेकेदार की लापरवाही से सरिया और बीम का लटक कम बनाने की वजह से क्रैक हुआ है । हमने सीमेन्ट, सरिया, बालू सभी उच्च क्वालिटी का लगाया ठेकेदार की वजह से इतना बड़ा नुकसान हो गया क्या करें की कानून के दायरे में आ जाय और हम 7 लाख के नुकसान से बच जाए सलाह दे और हेल्प करें इस आदमी का नाम याकूब अंसारी है यह जिला - मीरजापुर में मकान बनाने का ठेकेदार है रहने वाला बिहार का है हमने इस आदमी से अपना मकान बनवाया इस ठेकेदार की लापरवाही से मेरे मकान का 2 बीम  2 महीने के अन्दर एक बीम 10 जगह से और दुसरा बीम  8 जगह से क्रैक हो गया और मकान गिरने के कगार पर पहचान गया है । पुलिस उच्चाधिकारियों  से निवेदन है कि इस ठेकेदार ने  मकान बनाने का कार्य बहुत ही लापरवाही से किया मेरा  मकान कभी भी गिर सकता है और मेरा  पैसे की और जान - माल  की हानि हो सकती है मेरे  1 बिस्वा के मकान में रू 8 लाख का नुकसान हो गया  हे ईश्वर मेरे और मेरे परिवार की रक्षा करे मेरा नाम-  सुदर्शन मौर्य पता- सोहता अडडा जंगीरोड, मीरजापुर  मो- 9455024500

विभाग -पुलिसशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-09-07-2021शिकायत की स्थिति-

स्तर -क्षेत्राधिकारी स्तरपद -क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 09-06-2021 09-07-2021 क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त-क्षेत्राधिकारी , नगर ,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस अधीनस्थ को प्रेषित

2 अंतरित क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त (पुलिस ) 09-06-2021 09-07-2021 थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षक-कोतवाली कटरा,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें कार्यालय स्तर पर लंबित

Whether Dr. Ram Manohar Lohiya hospital is not safe for patients quite obvious from this anarchy?

 





Beerbhadra Singh <myogimpsingh@gmail.com>

Whether to lodge F.I.R. or not is the prerogative of the police if not why did the state police not lodge F.I.R. in the rape matter concerned with Dr. Ram Manohar Lohiya institute?
1 message

Beerbhadra Singh <myogimpsingh@gmail.com>Sun, Jun 13, 2021 at 11:26 AM
To: pmosb <pmosb@pmo.nic.in>, presidentofindia@rb.nic.in, supremecourt <supremecourt@nic.in>, urgent-action <urgent-action@ohchr.org>, cmup@up.nic.in, lokayukta@hotmail.com, lscm700@gmail.com, uphrclko@yahoo.co.in, sec.sic@up.nic.in, hgovup@up.nic.in, csup@up.nic.in
Whether the serious allegations of rape by the daughter of rape victim may be incredible and Lucknow police escaped to lodge even complaint in the matter? Undoubtedly Yogi Adityanath chief minister of the state talks of good governance in the state and law and order in the state under control while the factual position is that tragic incidence of rape committed by the staffs of Dr. Ram Manohar Lohiya institute in the state capital Lucknow under the nose of Yogi Adityanath and home ministry is under the supervision of Chief Minister Yogi Aditya Nath itself. 
A petition under Article 32 of the constitution of India to seek speedy action in the matter concerned with treatment of the  patients in the state of Uttar Pradesh and curb mismanagement prevailed in the government hospitals. 
To 
                                             Honourable Chief Justice of India / Companion Judges of the Apex Court 
                                                  Supreme Court of India, New Delhi
Prayer-Please pass appropriate order so that serious matters of rape and others committed against vulnerable sections specially women and girls may not be overlooked by the local police because police itself is stumbling block in reaching justice to needy in the state of Uttar Pradesh quite obvious from criticizing comments by Hon'ble justices of the Apex court of India on the number occasions. 

1-I pray before the Honourable Sir that  51A. Fundamental duties It shall be the duty of every citizen of India (a) to abide by the Constitution and respect its ideals and institutions, the National Flag and the National Anthem;(h) to develop the scientific temper, humanism and the spirit of inquiry and reform;

(i) to safeguard public property and to abjure violence;

(j) to strive towards excellence in all spheres of individual and collective activity so that the nation constantly rises to higher levels of endeavour and achievement.

2-I pray before the Honourable Sir that whether action will be taken in the serious allegations of criminal matters after the direction of senior political masters in the state of Uttar Pradesh ipso facto and if such politicians show the reluctant approach in the matter, then justice is like a wild goose chase for victim. In other words justice has been sacrificed or crushed by  the corruption i the state of Uttar Pradesh. 
3-I pray before the Honourable Sir that following is the detail of news item published in the leading Hindi daily Amar Ujala in which police categorically denied taking action on the representation of the rape victim in the state capital Lucknow quite obvious from widely circulated news through print and electronic media. 
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अमेठी Published by: ishwar ashish Updated Sat, 12 Jun 2021 04:15 PM IST
अमेठी पहुंची केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को एक युवती ने अपनी मां के साथ दुष्कर्म होने की बात बताई। युवती ने बताया कि इलाज के दौरान उसकी मां का दुष्कर्म किया गया। केंद्रीय मंत्री ने मामले को गंभीरता से लेते हुए अफसरों को निर्देश दिए हैं।
मेडिकल स्टाफ की हैवानियत का एक बड़ा मामला प्रकाश में आया है। शहर के एक वार्ड निवासी युवती ने अपनी 40 वर्षीय मां के साथ लखनऊ के डॉ. राम मनोहर लोहिया इंस्टीटयूट के स्टाफ पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। पुलिस द्वारा फरियाद न सुने जाने पर उसने रो-रोकर अपनी व्यथा अमेठी जिले के दौरे पर आईं केंन्द्रीय वस्त्र एवं महिला तथा बाल कल्याण मंत्री स्मृति ईरानी को सुनाई। स्मृति के निर्देश पर डीएम ने जांच टीम गठित कर रिपोर्ट तलब की है।
शहर के एक वार्ड निवासी महिला को पिछली छह तारीख को तबीयत खराब होने पर संयुक्त जिला अस्पताल गौरीगंज में भर्ती कराया गया था। महिला की पुत्री ने बताया कि हालत गंभीर होने पर चिकित्सकों ने उसकी मां को डॉ. राम मनोहर लोहिया इंस्टीटयूट रेफर कर दिया।

पुत्री का आरोप है कि वहां सात तारीख को उसकी मां को पहले इमरजेंसी व बाद में चौथी मंजिल के बेड संख्या 41 पर भर्ती कर दिया गया। इसके बाद परिजनों को बाहर भेज दिया गया। किसी को मिलने नहीं दिया गया। बहुत निवेदन करने पर जब दो दिन बाद वह अपनी मां से मिली तो उसकी हालत नाजुक थी। मिलने पर उसकी मां ने चिकित्सकों व स्टाफ द्वारा उसे मारने-पीटने तथा कुछ गलत किए जाने की बात कही।

इसके बाद बेहोशी की हालत में शुक्रवार रात वहां से डिस्चार्ज कराकर फिर से जिला अस्पताल गौरीगंज में भर्ती कराया गया। शनिवार को अचानक जिला मुख्यालय पहुंचीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से युवती ने कहा कि मां को भर्ती कराने के बाद जब परिजन सुबह केस दर्ज कराने स्थानीय थाने पहुंचे तो पुलिस ने टरका दिया। युवती की बात सुनने के बाद स्मृति ने डीएम, एसपी व सीएमओ से वार्ता कर मामले में कार्रवाई सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

खुदा भी आसमाँ से जब जमी पे देखता होगा | 

             इस मेरे प्यारे देश को क्या हुआ सोचता होगा||

This is a humble request of your applicant to you Hon’ble Sir that how can it be justified to withhold public services arbitrarily and promote anarchy, lawlessness and chaos arbitrarily by making the mockery of law of land? There is need of the hour to take harsh steps against the wrongdoer to win the confidence of citizenry and strengthen the democratic values for healthy and prosperous democracy. For this, your applicant shall ever pray for you, Hon’ble Sir.

Date-13/06/2021           Yours sincerely

                                   Yogi M. P. Singh, Mobile number-7379105911, 

Mohalla- Surekapuram, Jabalpur Road, District-Mirzapur, Uttar

 Pradesh, Pin code-231001.


According to police, allegations are against sub divisional magistrate Sadar consequently it would be expedient to refer it to D.M.

  Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2021/0191083 Grievance Concerns To Name Of Complainant Vineet Maurya Date of Receipt 15...