Email of nodal officer under RTI is closed because of technical fault of NIC Lucknow and now APIO collectorate submitted relevant report

 

संदर्भ संख्या : 60000220028239 , दिनांक - 22 Mar 2022 तक की स्थिति
आवेदनकर्ता का विवरण :
शिकायत संख्या:-60000220028239
आवेदक का नाम-Yogi M. P. Singhविषय-श्री मान जी ईमेल निष्क्रिय क्यों है इस पर प्रकाश क्यों नहीं डाला गया है प्रस्तुत आख्या में साथ ही यह बताये की जब वह दिए गए ईमेल को सक्रिय नहीं रखेंगे तो सूचना प्रार्थी किस तरह से उनसे अपनी ब्यथा व्यक्त करेगा और जिस तरह से उन्होंने घिसा पिटा जवाब लिखा है वह आधारहीन और रहस्य्मयी कार्यशैली का द्योतक है श्री मान जी प्रार्थी खुद दर्जनों जनसूचना आवेदनों का हवाला दे सकता है जो अपरजिलाधिकारी की कार्यशैली में आराजकता को दर्शाता है झूठे रिपोर्ट लगाने से बहुत बड़े स्तर पर हो रही आराजकता रुकने वाली नहीं है इसलिए उस ईमेल की बात करे जो निष्क्रिय अवस्था में है श्री मान आप द्वारा या आप से असंगत आख्या की अपेक्षा नहीं की जाती है जब आप की यह स्थिति है तो अधीनस्थों की क्या होगी श्री मान जी आप द्वारा तो उत्तर प्रदेश सूचना आयोग द्वारा भेजे गए या अग्रसारित किये गए आवेदनों को भी कोई तवज्जो नहीं दिया जाता है और वे भी इससे परिचित है किन्तु भ्र्ष्टाचार रुपी दानव के आगे सभी विवस है संदर्भ संख्या : 60000220018274 , दिनांक - 01 Mar 2022 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या:-60000220018274 आवेदक का नाम-Yogi M. P. Singhविषय-श्री मान जी प्रकरण का सम्बन्ध जिलाधिकारी मिर्ज़ापुर और मुख्य राजस्व अधिकारी मिर्ज़ापुर से है जिनकी लापरवाही से किसी को भी जनसूचना अधिकार के तहत कोई सूचना नहीं मिल रही है यह बहुत बड़े साजिश का हिस्सा है जनसूचना अधिकार २००५ को जनपद मिर्ज़ापुर में कमजोर किया जा रहा है अर्थात पारदर्शिता कानून का मखौल उड़ रहा है adm.lr.mi-up@gov.in ई-मेल पता निष्क्रिय कर दिया गया है जब की यही ईमेल मिर्ज़ापुर जनपद के नोडल अधिकारी का है जिनका दायित्व जनसूचना अधिकार २००५ के तहत प्राप्त आवेदनों को सम्बंधित के पास भेज कर निस्तारित कराना है अर्थात यह स्पस्ट है की जनसूचना अधिकार २००५ के तहत प्राप्त आवेदनों को जनपद मिर्ज़ापुर में बहुत ही लापरवाही से लिया जा रहा है Inactive ID Notification.Inbox MAIL...@esahydvagw15.nic.in8:49 AM (12 minutes ago)to me You have received this notification, as the recipient e-mail Address has been deactivated. Original Envelope Sender: myogimpsingh@gmail.com Envelope Recipient: adm.lr.mi-up@gov.inDate: 02/07/22Time: 08:49:25Subject: Think about cryptic and mysterious dealings of the online RTI Portal of the government of Uttar Pradesh that appeal is not available after disposal. Message Administratorनिष्क्रिय आईडी अधिसूचना। इनबॉक्स मेल...@esahydvagw15.nic.in 8:49 AM (12 मिनट पहले) मुझे यह सूचना मिली है, क्योंकि प्राप्तकर्ता का ई-मेल पता निष्क्रिय कर दिया गया है। मूल लिफाफा प्रेषक: myogimpsingh@gmail.com लिफाफा प्राप्तकर्ता: adm.lr.mi-up@gov.inदिनांक: 02/07/22 समय: 08:49:25विषय: उत्तर प्रदेश सरकार के ऑनलाइन आरटीआई पोर्टल के गूढ़ और रहस्यमय व्यवहार के बारे में सोचें कि निपटान के बाद अपील उपलब्ध नहीं है। संदेश प्रशासक क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश/आपत्ति दिनांक आदेश/आपत्ति आख्या देने वाले अधिकारी आख्या दिनांक आख्या स्थिति संलगनक 1 अंतरित लोक शिकायत अनुभाग -3(, मुख्यमंत्री कार्यालय ) 09-02-2022 कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है। जिलाधिकारी-मिर्ज़ापुर, 28-02-2022 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित 2 अंतरित जिलाधिकारी ( ) 09-02-2022 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें अपर जिला अधिकारी, (भू०/ रा०)-मिर्ज़ापुर,राजस्व एवं आपदा विभाग 28-02-2022 आख्या अपलोड है निस्तारित
विभाग -शिकायत श्रेणी -
नियोजित तारीख-19-03-2022शिकायत की स्थिति-
स्तर -जनपद स्तरपद -जिलाधिकारी
प्राप्त रिमाइंडर-
प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-
फीडबैक की स्थिति -
संलग्नक देखें -Click here
नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!
अधीनस्थ द्वारा प्राप्त आख्या :
क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश/आपत्ति दिनांक आदेश/आपत्ति आख्या देने वाले अधिकारी आख्या दिनांक आख्या स्थिति संलगनक
1 अंतरित लोक शिकायत अनुभाग -3(, मुख्यमंत्री कार्यालय ) 04-03-2022 कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है। जिलाधिकारी-मिर्ज़ापुर, 21-03-2022 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित
2 अंतरित जिलाधिकारी ( ) 05-03-2022 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें अपर जिला अधिकारी, (भू०/ रा०)-मिर्ज़ापुर,राजस्व एवं आपदा विभाग 21-03-2022 प्रकरण में आख्या प्राप्त कर निस्तारण हेतु संलग्न है निस्तारित
Grievance Status for registration number : GOVUP/E/2022/09893
Grievance Concerns To
Name Of Complainant
Yogi M. P. Singh
Date of Receipt
01/03/2022
Received By Ministry/Department
Uttar Pradesh
Grievance Description
श्री मान जी ईमेल निष्क्रिय क्यों है इस पर प्रकाश क्यों नहीं डाला गया है प्रस्तुत आख्या में साथ ही यह बताये की जब वह दिए गए ईमेल को सक्रिय नहीं रखेंगे तो सूचना प्रार्थी किस तरह से उनसे अपनी ब्यथा व्यक्त करेगा और जिस तरह से उन्होंने घिसा पिटा जवाब लिखा है वह आधारहीन और रहस्य्मयी कार्यशैली का द्योतक है श्री मान जी प्रार्थी खुद दर्जनों जनसूचना आवेदनों का हवाला  दे सकता है जो अपरजिलाधिकारी की कार्यशैली में आराजकता को दर्शाता है झूठे रिपोर्ट लगाने से बहुत बड़े स्तर पर हो रही आराजकता रुकने वाली नहीं है इसलिए उस ईमेल की बात करे जो निष्क्रिय अवस्था में है  श्री मान आप द्वारा या आप से असंगत आख्या की अपेक्षा नहीं की जाती है जब आप की यह स्थिति है तो अधीनस्थों की क्या होगी श्री मान जी आप द्वारा तो उत्तर प्रदेश सूचना आयोग द्वारा भेजे गए या अग्रसारित किये गए आवेदनों को भी कोई तवज्जो नहीं दिया जाता है और वे भी इससे परिचित है किन्तु भ्र्ष्टाचार रुपी दानव के आगे  सभी विवस है संदर्भ संख्या : 60000220018274 , दिनांक - 01 Mar 2022 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या:-60000220018274
आवेदक का नाम-Yogi M. P. Singhविषय-श्री मान जी प्रकरण का सम्बन्ध जिलाधिकारी मिर्ज़ापुर और मुख्य राजस्व अधिकारी मिर्ज़ापुर से है जिनकी लापरवाही से किसी को भी जनसूचना अधिकार के तहत कोई सूचना नहीं मिल रही है यह बहुत बड़े साजिश का हिस्सा है जनसूचना अधिकार २००५ को जनपद मिर्ज़ापुर में कमजोर किया जा रहा है अर्थात पारदर्शिता कानून का मखौल उड़ रहा है adm.lr.mi-up@gov.in ई-मेल पता निष्क्रिय कर दिया गया है जब की यही ईमेल मिर्ज़ापुर जनपद के नोडल अधिकारी का है जिनका दायित्व जनसूचना अधिकार २००५ के तहत प्राप्त आवेदनों को सम्बंधित के पास भेज कर निस्तारित कराना है अर्थात यह स्पस्ट है की जनसूचना अधिकार २००५ के तहत प्राप्त आवेदनों को जनपद मिर्ज़ापुर में बहुत ही लापरवाही से लिया जा रहा है Inactive ID Notification.Inbox MAIL...@esahydvagw15.nic.in8:49 AM (12 minutes ago)to me You have received this notification, as the recipient e-mail Address has been deactivated. Original Envelope Sender: myogimpsingh@gmail.com Envelope Recipient: adm.lr.mi-up@gov.inDate: 02/07/22Time: 08:49:25Subject: Think about cryptic and mysterious dealings of the online RTI Portal of the government of Uttar Pradesh that appeal is not available after disposal. Message Administratorनिष्क्रिय आईडी अधिसूचना। इनबॉक्स मेल...@esahydvagw15.nic.in 8:49 AM (12 मिनट पहले) मुझे यह सूचना मिली है, क्योंकि प्राप्तकर्ता का ई-मेल पता निष्क्रिय कर दिया गया है। मूल लिफाफा प्रेषक: myogimpsingh@gmail.com लिफाफा प्राप्तकर्ता: adm.lr.mi-up@gov.inदिनांक: 02/07/22 समय: 08:49:25विषय: उत्तर प्रदेश सरकार के ऑनलाइन आरटीआई पोर्टल के गूढ़ और रहस्यमय व्यवहार के बारे में सोचें कि निपटान के बाद अपील उपलब्ध नहीं है। संदेश प्रशासक


क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी आदेश/आपत्ति दिनांक आदेश/आपत्ति आख्या देने वाले अधिकारी आख्या दिनांक आख्या स्थिति संलगनक

1 अंतरित लोक शिकायत अनुभाग -3(, मुख्यमंत्री कार्यालय ) 09-02-2022 कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है। जिलाधिकारी-मिर्ज़ापुर, 28-02-2022 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित

2 अंतरित जिलाधिकारी ( ) 09-02-2022 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें अपर जिला अधिकारी, (भू०/ रा०)-मिर्ज़ापुर,राजस्व एवं आपदा विभाग 28-02-2022 आख्या अपलोड है निस्तारित
Current Status
Case closed
Date of Action
21/03/2022
Remarks
अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित प्रकरण में आख्या प्राप्त कर निस्तारण हेतु संलग्न है
Reply Document
Rating
1
Poor
Rating Remarks
It may be the cause of the deactivation of email may be a technical fault as stated in the report submitted by the assistant public information officer collectorate but it is confirmed that this technical fault has been deliberately created by the concerned who are not interested to rectify problem quite obvious from cryptic working style of concerned staff. On the one side of a screen half of the appeals submitted under subsection 3 of section 19 of the R.T.I. Act 2005 is being returned by the registry of the state information commission government of Uttar Pradesh on the flimsy ground quite obvious from their mysterious and cryptic working style to support the corrupt public staff working under the government and on the other side of the screen, such problems are being created deliberately in the path of information seekers representing the lackadaisical approach of the accountable public functionaries of the Government of Uttar Pradesh towards the compliance of the provisions of R.T.I. Act 2005.
Officer Concerns To
Officer Name
Shri Arun Kumar Dube (Joint Secretary)
Organisation name
Government of Uttar Pradesh
Contact Address
Chief Minister Secretariat U.P. Secretariat, Lucknow
Email Address
sushil7769@gmail.com
Contact Number
05222215127

Yogi

An anti-corruption crusader. Motive to build a strong society based on the principle of universal brotherhood. Human rights defender and RTI activist. Working for the betterment of societies and as an anti-corruption crusader for more than 25 years. Our sole motive is to raise the voices of weaker and downtrodden sections of the society and safeguard their human rights. Our motive is to promote the religion of universal brotherhood among the various castes communities of different religions. Man is great by his deeds and character.

2 Comments

Your view points inspire us

  1. It may be the cause of the deactivation of email maybe technical fault as stated in the report submitted by assistant public information officer collectorate but it is confirmed that this technical fault has been deliberately created by concerned who are not interested to rectify problem quite obvious from cryptic working style of concerned staff. On the one side of a screen half of appeals submitted under subsection 3 of section 19 of the R.T.I. Act 2005 is being returned by the registry of the state information commission government of Uttar Pradesh on the flimsy ground quite obvious from their mysterious and cryptic working style to support the corrupt public staff working under the government .

    ReplyDelete
  2. On the one side of a screen half of appeals submitted under subsection 3 of section 19 of the R.T.I. Act 2005 is being returned by the registry of the state information commission government of Uttar Pradesh on the flimsy ground quite obvious from their mysterious and cryptic working style to support the corrupt public staff working under the government and on the other side of screen such problems are being created deliberately in the path of information seekers representing the lackadaisical approach of the accountable public functionaries of the Government of Uttar Pradesh towards the compliance of the provisions of R.T.I. Act 2005.

    ReplyDelete
Previous Post Next Post