Instead of looking into merit of case concerning misuse of section 107/116 by police, C.O. City submitted inconsistent arbitrary report

 

संदर्भ संख्या : 40019922005798 , दिनांक - 31 Mar 2022 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019922005798

आवेदक का नाम-Sudarshan Mauryaविषय-The matter concerns misuse of section 107/116 by the Incharge inspector, Kotwali Katra, District-Mirzapur. Short submissions are as follows. 1-According to communication dated 15/03/2022 of quasi-judicial court of city magistrate based on report of inspector Kotwali Katra dated-11/01/2022 bearing approval of circle officer dated zero, aggrieved applicant Sudarshan Maurya summoned to furnish bond under section 107/116. Vide first page of attached document to representation. निरीक्षक कोतवाली कटरा दिनांक-11/01/2022 की रिपोर्ट के आधार पर नगर मजिस्ट्रेट की अर्ध-न्यायिक अदालत के संचार दिनांक 15/03/2022 के अनुसार, सर्कल अधिकारी दिनांक शून्य के अनुमोदन के आधार पर, पीड़ित आवेदक सुदर्शन मौर्य को धारा 107 /116. के तहत बांड प्रस्तुत करने के लिए बुलाया गया.2-It is submitted before the Honourable Sir that Honourable Sir may take a glance of circular dated 09 Sept 2021 which is direction under guidelines given by the High Court of judicature at Allahabad to curb the misuse of section 107/116/151 of the criminal penal code. If the concerned mandate misused these sections then aggrieved individuals will be provided 25000 rupees as compensation for damages and defaulter public staff will be subject to penal action in accordance with the law. Vide second page of attached document to representation.माननीय महोदय के समक्ष यह प्रस्तुत किया जाता है कि माननीय महोदय दिनांक 09 सितंबर 2021 के परिपत्र पर एक नज़र डाल सकते हैं, जो कि आपराधिक दंड संहिता की धारा 107/116/151 के दुरुपयोग को रोकने के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों के तहत निर्देश है। यदि संबंधित जनादेश ने इन धाराओं का दुरुपयोग किया है तो पीड़ित व्यक्तियों को नुकसान के मुआवजे के रूप में 25000 रुपये प्रदान किए जाएंगे और चूककर्ता सार्वजनिक कर्मचारी कानून के अनुसार दंडात्मक कार्रवाई के अधीन होंगे।3-According to communication dated 29/07/2021 of quasi-judicial court of city magistrate based on report of inspector Kotwali Katra dated-16/06/2021 bearing approval of circle officer dated zero, aggrieved applicant Sudarshan Maurya summoned to furnish bond under section 107/116. Vide third page of attached document to representation.  निरीक्षक कोतवाली कटरा दिनांक-16/06/2021 की रिपोर्ट के आधार पर नगर मजिस्ट्रेट की अर्ध-न्यायिक अदालत के संचार दिनांक 29/07/2021 के अनुसार, शून्य सर्कल अधिकारी की स्वीकृति के आधार पर, पीड़ित आवेदक सुदर्शन मौर्य को धारा 107/116 के तहत बांड प्रस्तुत करने के लिए बुलाया गया .4-In the matter concerned, police took the recourse that they are not technical expert so the investigation is not feasible by the police unless a technical expert may provide its report. For the enquiry, by a technical expert, chauki in-charge Bali Maurya forwarded the matter to the executive officer municipality Mirzapur city and a thorough enquiry was carried out by the engineer municipality Mirzapur city and enquiry report dated-31/08/2021 letter number-194 was submitted before executive officer, municipality Mirzapur city and executive officer communicated this report under his own signature to chauki in-charge Bali Maurya on 09/09/2021.Vide fourth page of attached document to representation. संबंधित मामले में, पुलिस ने यह सहारा लिया कि वे तकनीकी विशेषज्ञ नहीं हैं, इसलिए पुलिस द्वारा जांच संभव नहीं है जब तक कि कोई तकनीकी विशेषज्ञ अपनी रिपोर्ट प्रदान न करे।  एक तकनीकी विशेषज्ञ द्वारा जांच के लिए चौकी प्रभारी बाली मौर्य ने मामले को कार्यपालक अधिकारी नगर पालिका मिर्जापुर शहर को अग्रेषित कर इंजीनियर नगर पालिका मिर्जापुर नगर द्वारा विस्तृत जांच की गयी एवं जांच रिपोर्ट दिनांक-31/08/2021 पत्र क्रमांक

विभाग -पुलिसशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-27-04-2022शिकायत की स्थिति-

स्तर -क्षेत्राधिकारी स्तरपद -क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक31-03-2022 को फीडबैक:-क्षेत्राधिकारी महोदय आई जी आर एस के पत्र को पढ़ते भी नहीं और जवाब लगावा देते हैं। यह सोच कर बड़ा दुख होता है की एक आईपीएस रैंक के अधिकारी होकर भी सही और गलत का निर्णय नहीं कर पाते हैं जो उनके सिपाही इमरान खान और चौकी इंचार्ज बाली मौर्य जो गलत रिपोर्ट पेश कर दिया उसी रिपोर्ट को क्षेत्राधिकारी महोदय बार- बार लगवां दे रहे हैं रिपोर्ट को देखकर बड़ा दुख होता है कि कितनी मेहनत से इन्होंने आईपीएस क्रैक किया होगा और ईश्वर ने इन्हें जनता का तकलीफ कम करने के लिए इतनी ऊंची कुर्सी पर बैठाया है लेकिन क्षेत्राधिकारी महोदय अपने उस कुर्सी का भी सम्मान नहीं करते उस मुस्लिम सिपाही इमरान खान की ही बातों का भरोसा करते है जो सिर्फ और सिर्फ अपने मजहब का सपोर्ट करता है न की सही का । नगर पालिका से जांच रिपोर्ट आने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं करते हैं आईपीएस रैंक के अधिकारी मुख्यमंत्री पोर्टल का मजाक उड़ाते हैं। या तो इनको मुख्यमंत्री जी की ताकत का एहसास नहीं है या फिर यह अपने आप को मुख्यमंत्री से भी बड़ा समझते हैं

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 28-03-2022 27-04-2022 क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त-क्षेत्राधिकारी , नगर ,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस आख्या उच्च स्तर पर प्रेषित

2 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 31-03-2022 30-04-2022 वरिष्ठ /पुलिस अधीक्षक-मिर्ज़ापुर,पुलिस शिकायतकर्ता द्वारा असंतुष्ट फीडबैक प्राप्त होने पर उच्च अधिकारी को पुनः परीक्षण हेतु प्रेषित. अनमार्क

संदर्भ संख्या : 40019922005799 , दिनांक - 31 Mar 2022 तक की स्थिति
आवेदनकर्ता का विवरण :
शिकायत संख्या:-40019922005799
आवेदक का नाम-Sudarshan Mauryaविषय-जनसुनवाई समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश सन्दर्भ संख्या:- 40019922005798 लाभार्थी का विवरण नाम Sudarshan Maurya पिता/पति का नाम Brijlal Maurya मोबइल नंबर(१) 9455024500 Aggrieved applicant requests to connect this grievance with the aforementioned complaints as these submissions are the rest of submissions of complaint number-40019922005798 ipso facto. पीड़ित आवेदक इस शिकायत को उपरोक्त शिकायतों से जोड़ने का अनुरोध करता है क्योंकि ये सबमिशन शिकायत संख्या-40019922005798 के बाकी सबमिशन हैं। संबंधित मामले में, पुलिस ने यह सहारा लिया कि वे तकनीकी विशेषज्ञ नहीं हैं, इसलिए पुलिस द्वारा जांच संभव नहीं है जब तक कि कोई तकनीकी विशेषज्ञ अपनी रिपोर्ट प्रदान न करे। एक तकनीकी विशेषज्ञ द्वारा जांच के लिए चौकी प्रभारी बाली मौर्य ने मामले को कार्यपालक अधिकारी नगर पालिका मिर्जापुर शहर को अग्रेषित कर इंजीनियर नगर पालिका मिर्जापुर नगर द्वारा विस्तृत जांच की गयी एवं जांच रिपोर्ट दिनांक-31/08/2021 पत्र क्रमांक -194 को कार्यपालक अधिकारी, नगर पालिका मिर्जापुर नगर के समक्ष प्रस्तुत किया गया तथा कार्यपालक अधिकारी ने अपने हस्ताक्षर से चौकी प्रभारी बाली मौर्य को दिनांक 09/09/2021 को यह जांच रिपोर्ट प्रेषित किया। Sir, inspector Kotwali Katra may be punished for dereliction of duty as he failed to pursue the sequence of events in the matter. महोदय, निरीक्षक कोतवाली कटरा को कर्तव्य की अवहेलना के लिए दंडित किया जा सकता है क्योंकि वह मामले में घटनाओं के क्रम को आगे बढ़ाने में विफल रहा। Instead of taking action in the matter, the inspector blatantly abused section 107 and 116 of criminal penal code consequently applicant may be compensated by 25000 rupees as detriment occurred to the applicant. मामले में कार्रवाई करने के बजाय, निरीक्षक ने आपराधिक दंड संहिता की धारा 107 और 116 का खुले तौर पर दुरुपयोग किया, परिणामस्वरूप आवेदक को 25000 रुपये का मुआवजा नियमानुसार दिया जाय क्योंकि आवेदक को नुकसान हुआ है। निरीक्षक को नियमानुसार कर्तब्य में चूक और अनियमिततता को संरक्षण करने के लिए दण्डित किया जाय जिससे एक नजीर स्थापित हो और दूसरे आपराधिक दंड संहिता की धारा 107, 151 और 116 का दुरुपयोग न करे
विभाग -पुलिसशिकायत श्रेणी -
नियोजित तारीख-27-04-2022शिकायत की स्थिति-
स्तर -क्षेत्राधिकारी स्तरपद -क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त
प्राप्त रिमाइंडर-
प्राप्त फीडबैक -दिनांक31-03-2022 को फीडबैक:-क्षेत्राधिकारी महोदय आई जी आर एस के पत्र को पढ़ते भी नहीं और जवाब लगावा देते हैं। यह सोच कर बड़ा दुख होता है की एक आईपीएस रैंक के अधिकारी होकर भी सही और गलत का निर्णय नहीं कर पाते हैं जो उनके सिपाही इमरान खान और चौकी इंचार्ज बाली मौर्य जो गलत रिपोर्ट पेश कर दिया उसी रिपोर्ट को क्षेत्राधिकारी महोदय बार- बार लगवां दे रहे हैं रिपोर्ट को देखकर बड़ा दुख होता है कि कितनी मेहनत से इन्होंने आईपीएस क्रैक किया होगा और ईश्वर ने इन्हें जनता का तकलीफ कम करने के लिए इतनी ऊंची कुर्सी पर बैठाया है लेकिन क्षेत्राधिकारी महोदय अपने उस कुर्सी का भी सम्मान नहीं करते उस मुस्लिम सिपाही इमरान खान की ही बातों का भरोसा करते है जो सिर्फ और सिर्फ अपने मजहब का सपोर्ट करता है न की सही का । नगर पालिका से जांच रिपोर्ट आने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं करते हैं आईपीएस रैंक के अधिकारी मुख्यमंत्री पोर्टल का मजाक उड़ाते हैं। या तो इनको मुख्यमंत्री जी की ताकत का एहसास नहीं है या फिर यह अपने आप को मुख्यमंत्री से भी बड़ा समझते हैं
फीडबैक की स्थिति -
संलग्नक देखें -Click here
नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!
अग्रसारित विवरण :
क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति
1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 28-03-2022 27-04-2022 क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त-क्षेत्राधिकारी , नगर ,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस आख्या उच्च स्तर पर प्रेषित
2 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 31-03-2022 30-04-2022 वरिष्ठ /पुलिस अधीक्षक-मिर्ज़ापुर,पुलिस शिकायतकर्ता द्वारा असंतुष्ट फीडबैक प्राप्त होने पर उच्च अधिकारी को पुनः परीक्षण हेतु प्रेषित. अनमार्क

1 Comments

Whatever comments you make, it is your responsibility to use facts. You may not make unwanted imputations against any body which may be baseless otherwise commentator itself will be responsible for the derogatory remarks made against any body proved to be false at any appropriate forum.

  1. Sir, inspector Kotwali Katra may be punished for dereliction of duty as he failed to pursue the sequence of events in the matter. महोदय, निरीक्षक कोतवाली कटरा को कर्तव्य की अवहेलना के लिए दंडित किया जा सकता है क्योंकि वह मामले में घटनाओं के क्रम को आगे बढ़ाने में विफल रहा। Instead of taking action in the matter, the inspector blatantly abused section 107 and 116 of criminal penal code consequently applicant may be compensated by 25000 rupees as detriment occurred to the applicant. मामले में कार्रवाई करने के बजाय, निरीक्षक ने आपराधिक दंड संहिता की धारा 107 और 116 का खुले तौर पर दुरुपयोग किया, परिणामस्वरूप आवेदक को 25000 रुपये का मुआवजा नियमानुसार दिया जाय क्योंकि आवेदक को नुकसान हुआ है। निरीक्षक को नियमानुसार कर्तब्य में चूक और अनियमिततता को संरक्षण करने के लिए दण्डित किया जाय जिससे एक नजीर स्थापित हो और दूसरे आपराधिक दंड संहिता की धारा 107, 151 और 116 का दुरुपयोग न करे

    ReplyDelete
Previous Post Next Post