What a honesty in Uttar Pradesh that motor connection in the name of Kamlesh Singh may be operated by Dileep Singh by grabbing premises?

 


संदर्भ संख्या : 40019922000778 , दिनांक - 10 Jan 2022 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019922000778

आवेदक का नाम-Kamlesh Singhविषय-अग्रसारित विवरण :क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 20-11-2021 20-12-2021 अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत आख्या उच्च स्तर पर प्रेषित2 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 09-01-2022 24-01-2022 अधीक्षण अभियंतामण्डल -मिर्ज़ापुर,विद्युत शिकायतकर्ता द्वारा असंतुष्ट फीडबैक प्राप्त होने पर उच्च अधिकारी को पुनः परीक्षण हेतु प्रेषित. अनमार्क , For more detail vide attached document to the representation.अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत महोदय आप ही बताये दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह द्वारा प्रार्थी का परिसर कब्जा करके प्रार्थी के नाम से मोटर चलाना किस तरह से न्यायोचित है जिनको आपके खुद कनिष्ठ अभियंता द्वारा आटा चक्की चलाते हुए रंगे  हाथ पकड़ा प्रार्थी के ही कंप्लेंट पर और उसके पश्चात प्रार्थी पुलिस की शरण में गया परिसर मुक्त करने वास्ते किन्तु पुलिस की अखंडता क्या है यह सभी जानते है महोदय दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह द्वारा प्रार्थी के नाम से बिजली कनेक्शन को चला रहे जो आप और पुलिस की रिपोर्ट से भी स्पस्ट है कृपया कार्यवाही करे दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह पर प्रार्थी के नाम पर प्रार्थी के परिसर को कब्ज़ा करके आपराधिक कृत्य कारित किया जा रहा है कृपया उचित कार्यवाही करे श्री मान जी को खुद मालुम है की विपक्षी दबंग है अन्यथा धारा १३५ के तहत चोरी की कार्यवाही के बाद भी प्रार्थी के कनेक्शन परिसर का कब्जा छोड़ देते श्री मान जी प्रार्थी को न्याय दे  श्री मान जी पुलिस उपनिरीक्षक महोदय की रिपोर्ट ही उनकी विवेकहीनता प्रदर्शित करती है अब तो विवरण हिंदी में है श्री मान जी किस तरह से दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह द्वारा कमलेश सिंह के कनेक्शन का उपयोग किया जाना न्यायोचित है उनके ही रिपोर्ट से स्पस्ट है की परिसर का उपयोग दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल द्वारा किया जा रहा है आप कह रहे है विद्युत् बिल का भुगतान कमलेश सिंह को करना है और परिसर का उपयोग और बिजली का बिल कमलेश सिंह के नाम है आप के अनुसार कमलेश सिंह को ही भरना है श्री मान जी कमलेश सिंह अपना कनेक्शन चला रहे है उनको अपना बिल भरना है तो दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह अभी तक कौन कनेक्शन चला रहे है आप का रिपोर्ट पक्षपात पूर्ण है और भ्र्ष्टाचार को बढ़ावा दे रहा है बहुत आश्चर्य है की वरिष्ठ अधिकारी प्रकरण पर चुप्पी साधे है श्री मान जी आपके उपनिरीक्षक कह रहे है जो बिद्युत बिल आया है उसका भुगतान कमलेश सिंह करे जब की उसको चलाएंगे दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह न तो वे परिसर छोड़ेगे और न ही बिल भरेंगे हां बिद्युत मोटर जरूर चलाएंगे ऐसे उपनिरीक्षकों की मदद ले कर हे भगवन रक्षा करे Concerned matter is bipolar. 1One of the poles is the theft of electricity resolved by the concerned executive engineer EDD II Manoj Kumar Yadav. Undoubtedly action taken against theft of electricity but premises are still under the possession of land grabbers who are using electricity connection of Victim Kamlesh Singh and premises of Kamlesh Singh. It is the job of police to free the premises of the electricity connection taken by the victim Kamlesh Singh from the clutches of grabbers. From the report of the executive engineer, it is obvious that premises of the electricity connection are in the possession of grabbers. 2Other pole is the grabbing of the premises by the accused who are shielded by the police concerned against whom petitions made by the complainant Yogi M. P. Singh. Following complaints made by the victim against the accused overlooked by the police through arbitrary reports.

विभाग -विद्युतशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-09-02-2022शिकायत की स्थिति-

स्तर -जनपद स्तरपद -अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 10-01-2022 09-02-2022 अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत अनमार्क

जनसुनवाई

समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश

सन्दर्भ संख्या:-  40019922000778

लाभार्थी का विवरण

नाम Kamlesh Singh पिता/पति का नाम Raghuvar Dayal Singh

मोबइल नंबर(१) 8127195424 मोबइल नंबर(२)

आधार कार्ड न. ई-मेल myogimpsingh@gmail.com

पता ग्राम- कोठरा कन्तित , ग्राम पंचायत - कोठरा कन्तित , ब्लाक - छानवे , तहसील - सदर , जिला - मिर्ज़ापुर

आवेदन पत्र का ब्यौरा

आवेदन पत्र का संक्षिप्त ब्यौरा अग्रसारित विवरण :क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 20-11-2021 20-12-2021 अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत आख्या उच्च स्तर पर प्रेषित2 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 09-01-2022 24-01-2022 अधीक्षण अभियंतामण्डल -मिर्ज़ापुर,विद्युत शिकायतकर्ता द्वारा असंतुष्ट फीडबैक प्राप्त होने पर उच्च अधिकारी को पुनः परीक्षण हेतु प्रेषित. अनमार्क , For more detail vide attached document to the representation.अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत महोदय आप ही बताये दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह द्वारा प्रार्थी का परिसर कब्जा करके प्रार्थी के नाम से मोटर चलाना किस तरह से न्यायोचित है जिनको आपके खुद कनिष्ठ अभियंता द्वारा आटा चक्की चलाते हुए रंगे  हाथ पकड़ा प्रार्थी के ही कंप्लेंट पर और उसके पश्चात प्रार्थी पुलिस की शरण में गया परिसर मुक्त करने वास्ते किन्तु पुलिस की अखंडता क्या है यह सभी जानते है महोदय दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह द्वारा प्रार्थी के नाम से बिजली कनेक्शन को चला रहे जो आप और पुलिस की रिपोर्ट से भी स्पस्ट है कृपया कार्यवाही करे दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह पर प्रार्थी के नाम पर प्रार्थी के परिसर को कब्ज़ा करके आपराधिक कृत्य कारित किया जा रहा है कृपया उचित कार्यवाही करे श्री मान जी को खुद मालुम है की विपक्षी दबंग है अन्यथा धारा १३५ के तहत चोरी की कार्यवाही के बाद भी प्रार्थी के कनेक्शन परिसर का कब्जा छोड़ देते श्री मान जी प्रार्थी को न्याय दे  श्री मान जी पुलिस उपनिरीक्षक महोदय की रिपोर्ट ही उनकी विवेकहीनता प्रदर्शित करती है अब तो विवरण हिंदी में है श्री मान जी किस तरह से दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह द्वारा कमलेश सिंह के कनेक्शन का उपयोग किया जाना न्यायोचित है उनके ही रिपोर्ट से स्पस्ट है की परिसर का उपयोग दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल द्वारा किया जा रहा है आप कह रहे है विद्युत् बिल का भुगतान कमलेश सिंह को करना है और परिसर का उपयोग और बिजली का बिल कमलेश सिंह के नाम है आप के अनुसार कमलेश सिंह को ही भरना है श्री मान जी कमलेश सिंह अपना कनेक्शन चला रहे है उनको अपना बिल भरना है तो दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह अभी तक कौन कनेक्शन चला रहे है आप का रिपोर्ट पक्षपात पूर्ण है और भ्र्ष्टाचार को बढ़ावा दे रहा है बहुत आश्चर्य है की वरिष्ठ अधिकारी प्रकरण पर चुप्पी साधे है श्री मान जी आपके उपनिरीक्षक कह रहे है जो बिद्युत बिल आया है उसका भुगतान कमलेश सिंह करे जब की उसको चलाएंगे दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह न तो वे परिसर छोड़ेगे और न ही बिल भरेंगे हां बिद्युत मोटर जरूर चलाएंगे ऐसे उपनिरीक्षकों की मदद ले कर हे भगवन रक्षा करे Concerned matter is bipolar. 1One of the poles is the theft of electricity resolved by the concerned executive engineer EDD II Manoj Kumar Yadav. Undoubtedly action taken against theft of electricity but premises are still under the possession of land grabbers who are using electricity connection of Victim Kamlesh Singh and premises of Kamlesh Singh. It is the job of police to free the premises of the electricity connection taken by the victim Kamlesh Singh from the clutches of grabbers. From the report of the executive engineer, it is obvious that premises of the electricity connection are in the possession of grabbers. 2Other pole is the grabbing of the premises by the accused who are shielded by the police concerned against whom petitions made by the complainant Yogi M. P. Singh. Following complaints made by the victim against the accused overlooked by the police through arbitrary reports.

संदर्भ दिनांक 10-01-2022 पूर्व सन्दर्भ(यदि कोई है तो) 0,0

विभाग ऊर्जा विभाग शिकायत श्रेणी विद्युत चोरी।

लाभार्थी का विवरण/शिकायत क्षेत्र का

शिकायत क्षेत्र का पता राजस्व ग्राम- कोठरा कन्तित, ग्राम पंचायत- कोठरा कन्तित, विकास खण्ड- छानवे, तहसील- सदर, जिला- मिर्ज़ापुर

Beerbhadra Singh

To write blogs and applications for the deprived sections who can not raise their voices to stop their human rights violations by corrupt bureaucrats and executives.

1 Comments

Whatever comments you make, it is your responsibility to use facts. You may not make unwanted imputations against any body which may be baseless otherwise commentator itself will be responsible for the derogatory remarks made against any body proved to be false at any appropriate forum.

  1. अग्रसारित विवरण :क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 20-11-2021 20-12-2021 अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत आख्या उच्च स्तर पर प्रेषित2 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 09-01-2022 24-01-2022 अधीक्षण अभियंतामण्डल -मिर्ज़ापुर,विद्युत शिकायतकर्ता द्वारा असंतुष्ट फीडबैक प्राप्त होने पर उच्च अधिकारी को पुनः परीक्षण हेतु प्रेषित. अनमार्क , For more detail vide attached document to the representation.अधिशासी अभियन्‍ता,विघुत-मिर्ज़ापुर,विद्युत महोदय आप ही बताये दिलीप सिंह पुत्र रघुवर दयाल सिंह द्वारा प्रार्थी का परिसर कब्जा करके प्रार्थी के नाम से मोटर चलाना किस तरह से न्यायोचित है

    ReplyDelete
Previous Post Next Post