No F.I.R. registered in online cheating of Rs.53000 with Mahima Singh, by police shows lackadaisical approach of police to deal cyber-crimes


संदर्भ संख्या : 60000230180102 , दिनांक - 05 Oct 2023 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-60000230180102

आवेदक का नाम-Yogi M. P. Singhविषय-Home Affairs >> Crime related (Records, prisons and cyber cell) ----------------------- An application under Article 51 A of the Constitution of India on behalf of Mahima Singh D/O Dayanand Singh to seek inquiry in the matter of cheating and website of the department of home concerning cyber-crime is not working quite obvious from the registration of the applicant But could not succeed to submit the complaint finally. In relation to the money LOOTED from the account from the applicant by the fraudulent syndicated tantamount to cyber-crime. Sir, It is requested that the applicant Mahima Singh, D/O Shri Dayanand Singh, resident of Village and Post-Nibi Gaharwar, police station- Vindhyachal, district- Mirzapur, had applied for online job, in the name of applying for the job, a message came to me on my WhatsApp number- 8940737808 where I was asked to join Telegram. Money was demanded from here. On 29.08.2023, Rs. 53000/- (fifty-three thousand) were withdrawn from the account of aggrieved applicant transferred in several instalments in 3 accounts of the fraudulent elements, one by one, from her account number 40819880157, name of the bank- State Bank of India, Dunkin Ganj, District- Mirzapur. First the amount starts with Rs 1000/-, second time it is Rs 1000/-, third time it is Rs 2000/-, fourth time it is Rs 10000/-, fifth time it is Rs 30000/- and sixth time it is deposited with Rs 9000/-. Even after depositing so much, more money is being demanded in the name of job. As I do not have money at present, I urged them to return my money, I do not want to do a job and do not want a job and return my money to me. But they are saying that until I do not send the money as told by them, they will not send my money anyhow. The details of the deposited account in which fraudulent elements deposited the cheated amount of money from the account of the applicant are as follows- Name-Trishulya Mathapathy Bank account number79060099387 Name of bank Telangana Rural IFSC Code SBIN0RRDCGB amount of money Rs.2000 Name-Matapathy Trishulya, Bank account number-7589191775 IFS

विभाग -शिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-04-10-2023शिकायत की स्थिति-

स्तर -जनपद स्तरपद -जिलाधिकारी

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अधीनस्थ द्वारा प्राप्त आख्या :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी अग्रसारित दिनांक आदेश आख्या देने वाले अधिकारी आख्या दिनांक आख्या स्थिति आपत्ति देखे संलगनक

1 अंतरित लोक शिकायत अनुभाग - 4(, मुख्यमंत्री कार्यालय) 19-09-2023 कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है। जिलाधिकारी-मिर्ज़ापुर, 04-10-2023 प्रकरण में सम्बंधित से आख्या प्राप्त कर निस्तारण हेतु प्रेषित है आख्या संलग्न है

विवरण हेतु क्लिक करें... निस्तारित

2 आख्या जिलाधिकारी ( ) 23-09-2023 कृपया उपरोक्त सबंध में तत्काल नियमानुसार कार्यवाही कर कृत कार्यवाही से अवगत कराने का कष्ट करें क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त-क्षेत्राधिकारी , नगर ,जनपद-मिर्ज़ापुर 04-10-2023 संदर्भित प्रकरण मे गहराई से जॉच किया गया तथा प्रभारी निरीक्षक थाना विन्ध्याचल से आख्या प्राप्त किया गया तो पाया गया कि आवेदिका उपरोक्त पते की निवासी है। प्रकरण के सम्बन्ध मे आवेदिका से वार्ता की गयी तो आवेदिका बताया गया कि मोबाईल पर पार्ट टाईम जॉब के लिये एड निकला था मैने दिये हुये मोबाईल नम्बर बात किया तो उधर से 10 हजार रूपये की मांग की गयी जिस पर मैने बताये गये खाता संख्या मे ट्रांसफर कर दिया गया। इसी प्रकार धीरे धीरे करके उधर सेपैसे की मांग की जाती रही मै लालच मे नौकरी के लिये क्रमशः खाता नम्बर 9060099387 तेलंगाना बैंक, खाता नम्बर7589141775, इंडियन बैंक व पुनः खाता संख्या881029863815 बैंक डीबीएस मे अलग अलग समय मे कुल 53 हजार रूपये डाल दिया तब मुझे मालूम हुआ कि मेरे साथ साईबर अपराध हो गया है। आवेदिका द्वारा बताया गया कि मेरे प्रार्थना पत्र की जॉच साईबर थाना से कराया जाय। उपरोक्त प्रकरण के सम्बन्ध मे प्रार्थना पत्र की जॉच हेतु प्रभारी निरीक्षक विन्ध्याचल द्वारा प्रभारी साईबर अपराध थाना मीरजापुर को पत्राचार किया गया है। प्रभारी निरीक्षक विन्ध्याचल विन्ध्याचल को निर्देशित किया गया कि प्रकरण मे अनुस्मारक पत्र प्रेषित कर अग्रिम विधिक कार्यवाही कराना सुनिश्चित करें। जॉच आख्या सादर अवलोकनार्थ सेवा मे प्रेषित है।

विवरण हेतु क्लिक करें... निस्तारित


Beerbhadra Singh

To write blogs and applications for the deprived sections who can not raise their voices to stop their human rights violations by corrupt bureaucrats and executives.

Post a Comment

Whatever comments you make, it is your responsibility to use facts. You may not make unwanted imputations against any body which may be baseless otherwise commentator itself will be responsible for the derogatory remarks made against any body proved to be false at any appropriate forum.

Previous Post Next Post