Executive engineer EDD II Rajesh Kumar did not take action against dismal performance of junior engineers unfortunately report is arbitrary



Grievance Status for registration number : GOVUP/E/2023/0036053

Grievance Concerns To

Name Of Complainant

Mahesh Pratap Singh alias Yogi M. P. Singh

Date of Receipt

04/06/2023

Received By Ministry/Department

Uttar Pradesh

Grievance Description

Uttar Pradesh government ordered for disconnection of 10 electricity connections per day but junior engineers in the office of executive engineer electricity distribution division II disconnected only one connection per day is the mockery of the circular issued by the government. The root cause of it is the incompetent personnel in the monitoring office who prefer corruption instead of honesty.

An application under Article 51A of the constitution of India to make an enquiry regarding the disconnection by the junior engineers in accordance with the circular issued by the government of Uttar Pradesh. According to the aforementioned circular, a junior engineer will disconnect the electricity connection of the electricity consumers who are not paying the dues of the electricity. Such directive is used by the competent authority to ensure the repayment of dues by the electricity consumers who are hollowing out the department of electricity by colluding with the corrupt staff of the department of electricity. 


The following is the newspaper cutting from the leading Hindi daily Amar Ujala published today in the state news by Lucknow bureau. The matter concerning the efficiency of the junior engineers working in the department of electricity district Mirzapur must not be overlooked by executive Engineer electricity distribution division second district Mirzapur Mr Rajesh Kumar. Every common man knows that the theft of electricity in district Mirzapur is on its Zenith and I think that such efforts on the part of the government are very much beneficial for the department but few corrupt people in the department will adopt a lackadaisical approach to decelerate the government. 

हर दिन 10 कनेक्शन काटने में जेई छोड़ रहे पसीना लखनऊ। 

प्रदेश में बिजली विभाग के अवर अभियंताओं को हर दिन कम से कम 10 बकायेदारों के कनेक्शन काटने का निर्देश दिया गया है। इस निर्देश का पालन करने में अवर अभियंता पसीना छोड़ रहे हैं। उनका कहना है कि एक से अधिक उपकेंद्र का चार्ज होने की वजह से वे अन्य कार्य नहीं कर पा रहे हैं। जबकि पॉवर कारपोरेशन लक्ष्य पूरा नहीं करने पर कार्रवाई की धमकी दे रहा है। प्रदेश में अवर अभियंता के करीब साढ़े पांच हजार पद हैं। इन दिनों करीब पांच हजार अभियंता कार्यरत हैं। इन पदों की स्वीकृति वर्ष 1972 के अनुसार हुई थी। तब करीब 30 लाख उपभोक्ता थे, लेकिन अब इनकी संख्या तीन करोड़ 30 लाख के आसपास हो गई है। ब्यूरो कार्यालय अधिशासी अभियन्ता विद्युत वितरण खण्ड-द्वितीय, पूर्वान्चल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड, फतहों, मीरजापुर


पत्रांक 3162 वि०वि०ख०- द्वि० (मी०) /

दिनांक 12-06-2023

विषय:-ऑन-लाइन सन्दर्भ सं0 40019923009334 के संबंध में।

श्री योगी एम०पी० सिंह निवासी सुरेकापुरम कालोनी, श्री लक्ष्मी नारायण बैकुंठ महादेव मंदिर, रीवां रोड, जिला- मीरजापुर।

महोदय,

आप द्वारा की गई ऑन-लाइन सन्दर्भ सं0 40019923009334 के माध्यम से मांगी गई

बिन्दुवार सूचना का विवरण निम्नवत् है:- 1. इस खण्ड के अन्तर्गत कुल 14 अवर अभियन्ता कार्यरत हैं।

2. माह मई, 2023 का मास्टर डेटा दिनांक 02.06.2023 तक नहीं आया है। माह अप्रैल, 2023 में कुल 452 विद्युत संयोजन की लाइन विच्छेदित किया गया है

3. उ0प्र0 सरकार द्वारा जो नोटिस ऑफिस मेमो, सर्कुलर और उसके क्रियान्वयन के लिये आदेश जारी करती है, उसी के तहत कार्य किया जाता है।

(राजेश कुमार) अधिशासी अभियन्ता

प्रार्थी आपके रिपोर्ट की आलोचना कुछ इस प्रकार करता हैअर्थात आपके अवर अभियंताओं द्वारा प्रतिदिन 15 कनेक्शन विच्छेद किए गए जो कनेक्शन धारी विद्युत बकाया काफी ज्यादा रखे हुए थे अर्थात प्रत्येक अवर अभियंता प्रतिदिन लगभग एक कनेक्शन विच्छेद करने का काम किया है जबकि शासन द्वारा निर्धारित संख्या 10 है तो आप के द्वारा कहां पर शासनादेश, परिपत्र और आफिस मेमो का पालन किया जा रहा है यदि शासन कहता है कि 10 कनेक्शन विच्छेद करिए तो आप क्यों सिर्फ एक कनेक्शन विच्छेद कर रहे हैं क्या आप बैठकर सैलरी लेना चाहते हैं आप अपने आख्या का खुद अवलोकन करें आप द्वारा अभियांत्रिकी की पढ़ाई करने के कारण आपने गणित का अध्ययन अवश्य किया है आपके अवर अभियंता शासन के निर्देशों का 11 परसेंट भी पालन नहीं कर रहे हैं फिर आप द्वारा यह कैसे दावा किया जा सकता है कि शासन द्वारा पारित सभी सर्कुलर, गवर्मेंट आर्डर और ऑफिस मेमो का पालन आपके द्वारा सतर्कता के साथ किया जा रहा है

Grievance Document

Current Status

Case closed   

Date of Action

29/06/2023

Remarks

अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित complaint no 60000230111813 is closed complaint no 60000230111813 is closed

Rating

1

Poor

Rating Remarks

अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित complaint no 60000230111813 is closed complaint no 60000230111813 is closed Where is the report submitted by the subordinate officer as quoted in the remark aforementioned? It is most unfortunate that our leaders, bureaucrats and executives only wants to wear mask of honesty not really interested in honesty which is root cause of such problems. Undoubtedly questions are genuine but against pseudo honesty of public servants.

Appeal Details

Appeal Number

Date of Receipt

Appeal Text

Current Status

Officer Concerns To

Officer Name

Shri Bhaskar Pandey (Joint Secretary)

Organisation name

Government of Uttar Pradesh

Contact Address

Chief Minister Secretariat , Room No. 321, U.P. Secretariat, Lucknow

Email Address

bhaskar.12214@gov.in

Contact Number

05222226350

संदर्भ संख्या : 60000230111813 , दिनांक - 03 Jul 2023 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-60000230111813

आवेदक का नाम-Mahesh Pratap Singh alias Yogi M. P. Singhविषय-Uttar Pradesh government ordered for disconnection of 10 electricity connections per day but junior engineers in the office of executive engineer electricity distribution division II disconnected only one connection per day is the mockery of the circular issued by the government. The root cause of it is the incompetent personnel in the monitoring office who prefer corruption instead of honesty. An application under Article 51A of the constitution of India to make an enquiry regarding the disconnection by the junior engineers in accordance with the circular issued by the government of Uttar Pradesh. According to the aforementioned circular, a junior engineer will disconnect the electricity connection of the electricity consumers who are not paying the dues of the electricity. Such directive is used by the competent authority to ensure the repayment of dues by the electricity consumers who are hollowing out the department of electricity by colluding with the corrupt staff of the department of electricity. The following is the newspaper cutting from the leading Hindi daily Amar Ujala published today in the state news by Lucknow bureau. The matter concerning the efficiency of the junior engineers working in the department of electricity district Mirzapur must not be overlooked by executive Engineer electricity distribution division second district Mirzapur Mr Rajesh Kumar. Every common man knows that the theft of electricity in district Mirzapur is on its Zenith and I think that such efforts on the part of the government are very much beneficial for the department but few corrupt people in the department will adopt a lackadaisical approach to decelerate the government. हर दिन 10 कनेक्शन काटने में जेई छोड़ रहे पसीना लखनऊ। प्रदेश में बिजली विभाग के अवर अभियंताओं को हर दिन कम से कम 10 बकायेदारों के कनेक्शन काटने का निर्देश दिया गया है। इस निर्देश का पालन करने में अवर अभियंता पसीना छोड़ रहे हैं। उनका कहना है कि एक से अधिक उपकेंद्र का चार्ज होने की वजह से वे अन्य कार्य नहीं कर पा रहे हैं। जबकि पॉवर कारपोरेशन लक्ष्य पूरा नहीं करने पर कार्रवाई की धमकी दे रहा है। प्रदेश में अवर अभियंता के करीब साढ़े पांच हजार पद हैं। इन दिनों करीब पांच हजार अभियंता कार्यरत हैं। इन पदों की स्वीकृति वर्ष 1972 के अनुसार हुई थी। तब करीब 30 लाख उपभोक्ता थे, लेकिन अब इनकी संख्या तीन करोड़ 30 लाख के आसपास हो गई है। ब्यूरो कार्यालय अधिशासी अभियन्ता विद्युत वितरण खण्ड-द्वितीय, पूर्वान्चल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड, फतहों, मीरजापुर पत्रांक 3162 वि०वि०ख०- द्वि० (मी०) / दिनांक 12-06-2023 विषय:-ऑन-लाइन सन्दर्भ सं0 40019923009334 के संबंध में। श्री योगी एम०पी० सिंह निवासी सुरेकापुरम कालोनी, श्री लक्ष्मी नारायण बैकुंठ महादेव मंदिर, रीवां रोड, जिला- मीरजापुर। महोदय, आप द्वारा की गई ऑन-लाइन सन्दर्भ सं0 40019923009334 के माध्यम से मांगी गई बिन्दुवार सूचना का विवरण निम्नवत् है:- 1. इस खण्ड के अन्तर्गत कुल 14 अवर अभियन्ता कार्यरत हैं। 2. माह मई, 2023 का मास्टर डेटा दिनांक 02.06.2023 तक नहीं आया है। माह अप्रैल, 2023 में कुल 452 विद्युत संयोजन की लाइन विच्छेदित किया गया है 3. उ0प्र0 सरकार द्वारा जो नोटिस ऑफिस मेमो, सर्कुलर और उसके क्रियान्वयन के लिये आदेश जारी करती है, उसी के तहत कार्य किया जाता है। (राजेश कुमार) अधिशासी अभियन्ता प्रार्थी आपके रिपोर्ट की आलोचना कुछ इस प्रकार करता हैअर्थात आपके अवर अभियंताओं द्वारा प्रतिदिन 15 कनेक्शन विच्छेद किए गए जो कनेक्शन धारी विद्युत बकाया काफी ज्यादा रखे हुए थे अर्थात प्रत्येक अवर अभियंता प्रतिदिन लगभग एक कनेक्शन विच्छेद करने का काम किया है जबकि शासन द्वारा निर्धारित संख्या 10 है तो आप के द्वारा कहां पर शासनादेश, परिपत्र और आफिस मेमो का पालन किया जा रहा है यदि शासन कहता है कि 10 कनेक्शन विच्छेद करिए तो आप क्यों सिर्फ एक कनेक्शन विच्छेद कर रहे हैं क्या आप बैठकर सैलरी लेना चाहते हैं आप अपने आख्या का खुद अवलोकन करें आप द्वारा अभियांत्रिकी की पढ़ाई करने के कारण आपने गणित का अध्ययन अवश्य किया है आपके अवर अभियंता शासन के निर्देशों का 11 परसेंट भी पालन नहीं कर रहे हैं फिर आप द्वारा यह कैसे दावा किया जा सकता है कि शासन द्वारा पारित सभी सर्कुलर, गवर्मेंट आर्डर और ऑफिस मेमो का पालन आपके द्वारा सतर्कता के साथ किया जा रहा है

विभाग -ऊर्जा विभागशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-28-06-2023शिकायत की स्थिति-

स्तर -शासन स्तरपद -अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अधीनस्थ द्वारा प्राप्त आख्या :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी अग्रसारित दिनांक आदेश आख्या देने वाले अधिकारी आख्या दिनांक आख्या स्थिति आपत्ति देखे संलगनक

1 अंतरित लोक शिकायत अनुभाग -3(, मुख्यमंत्री कार्यालय ) 16-06-2023 कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है।प्रकरण में अपने स्तर से कार्यवाही करने का कष्ट करें | अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव -ऊर्जा विभाग 28-06-2023 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित

2 अंतरित अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव (ऊर्जा विभाग ) 16-06-2023 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें प्रबन्ध निदेशकजोन -पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम 28-06-2023 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित

3 अंतरित प्रबन्ध निदेशक (उ.प्र.पावर कारपोरेशन लि. ) 17-06-2023 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें मुख्य अभियन्तामण्डल -मिर्ज़ापुर,विद्युत 28-06-2023 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित

4 अंतरित मुख्य अभियन्ता (विद्युत ) 19-06-2023 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें अधीक्षण अभियन्ता -मिर्ज़ापुर,विद्युत 28-06-2023 complaint no 60000230111813 is closed निस्तारित

5 अंतरित अधीक्षण अभियन्ता (विद्युत ) 20-06-2023 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें अधिशासी अभियंता , खंड - 2-मिर्ज़ापुर,विद्युत 28-06-2023 आख्या श्रेणी - प्रकरण मांग श्रेणी का है

complaint no 60000230111813 is closed निस्तारित

To see the attached document, click on the link


Beerbhadra Singh

To write blogs and applications for the deprived sections who can not raise their voices to stop their human rights violations by corrupt bureaucrats and executives.

Post a Comment

Whatever comments you make, it is your responsibility to use facts. You may not make unwanted imputations against any body which may be baseless otherwise commentator itself will be responsible for the derogatory remarks made against any body proved to be false at any appropriate forum.

Previous Post Next Post