Yogi

6/recent/ticker-posts

We need the report and conclusion of committee set up by Lucknow Development Authority so that next action may be taken in the matter

 



Grievance Status for registration number : GOVUP/E/2022/76147

Grievance Concerns To
Name Of Complainant
Yogi M. P. Singh
Date of Receipt
19/09/2022
Received By Ministry/Department
Uttar Pradesh
Grievance Description
Lucknow Development Authority

Think about the deep-rooted corruption in the working of the Lucknow development authority which is procrastinating in providing information concerning the setup of enquiry committee which is making inquiry regarding irregularity in the allocation of the plots by the Lucknow development authority and the corruption made during the registry of the plots.

In the name of progress in the enquiry they have provided that a reminder has been sent to the committee to provide the reports. Think about the gravity of situation that this reminder has been sent after 1 year since the date when the committee was set up.

This matter is being looked into by the Lucknow Development Authority is procrastinating on this matter for 5 years and they are failed to take action against the unscrupulous elements who caused great loss to the public exchequer.

Honesty is not a bed of roses, but it is a tough path on which it is not easy to travel. Undoubtedly greed has Shadowed the virtues of our public functionary and now they have followed the path of corruption which is the root cause of the deterioration of this country.

Once our India was used to be called the Golden Bird by the foreigners and now because of our greed we have reached the nadir.

श्रीमान जी प्रार्थी को जो दस्तावेज लगाने थे वह तो खुद ही सभी दस्तावेजों के स्कैन कॉपी ही थे इसलिए प्रार्थी को कोई नया दस्तावेज नहीं लगाना जो दस्तावेज देना था वह प्रार्थी दे चुका है शिकायतों के साथ संगत दस्तावेजों को तुरंत लगा दिया जाता है अलग से कुछ नहीं किया जाता महोदय दुनिया जानती है कि जब कोई कार्यवाही होती है उन दस्तावेजों की एक प्रति लेके कार्यालय में भी दाखिल दफ्तर हो गई होगी यह सच है कि भूमि आवंटियों के पास कोई भी दस्तावेज नहीं होगा क्योंकि वह सभी दस्तावेज तो दिनेश प्रताप सिंह के पास है सिर्फ रजिस्ट्री का पेपर छोड़कर क्योंकि वे तो उस प्लाट को बेच चुके है अब बेईमानी करके उस प्लाट पर कब्जा बनाए हुए लखनऊ विकास प्राधिकरण को चाहिए कि यदि भ्रष्टाचार के प्रकरण में कोई कार्यवाही करना चाहती है तो दिनेश सिंह से दस्तावेज तलब करें न कि योगी एमपी सिंह से क्योंकि योगी एमपी सिंह उन दस्तावेजों के संरक्षक नहीं है इन दस्तावेजों के संरक्षक दिनेश प्रताप सिंह और दस्तावेज उन्हीं से मांगा जाता है जो उनके संरक्षक होते हैं यही न्याय का नैसर्गिक सिद्धांत है
लखनऊ विकास प्राधिकरण कई वर्षों से इस बात की जांच कर रहा है की भूखंडों में के आवंटन में अनियमितता कितनी है और यह भी जांच कर रहा है की भूखंडों की रजिस्ट्री के समय माननीय उच्च न्यायालय के आदेश को दरकिनार क्यों किया गया और रजिस्ट्री का कार्य बिना मूल दस्तावेजों के क्यों संपादित कर दिया गया लेकिन आज तक किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा सिर्फ बहानेबाजी चल रही है फिर भी योगी आदित्यनाथ जी का दावा
हैं कि उन्होंने प्रदेश की जनता को एक भ्रष्टाचार मुक्त शासन दिया है अब भ्रष्टाचार की क्या परिभाषा भी बदल जाएगी हमारे नेताओं की वजह से

For more details, vide attached documents to the grievance.
Grievance Document
Current Status
Grievance received   
Date of Action
19/09/2022
Officer Concerns To
Forwarded to
Uttar Pradesh
Officer Name
Shri Bhaskar Pandey (Joint Secretary)
Organisation name
Uttar Pradesh
Contact Address
Chief Minister Secretariat , Room No. 321, U.P. Secretariat, Lucknow
Email Address
bhaskar.12214@gov.in
Contact Number
05222226350