Constant inconsistent and arbitrary report by Krishna Nagar police in matter concerning grabbing of private road of Kiran Singh is frustrating

  Successful Registration

Note: Kindly Note Your Registration Number for further references.

An email / sms has been sent to the email address / mobile number provided by you.

Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2022/0240236

Grievance Concerns To
Name Of Complainant
Kiran Singh
Date of Receipt
11/09/2022
Received By Ministry/Department
Prime Ministers Office
Grievance Description
Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2022/0213261 Grievance Concerns To Name Of Complainant Kiran Singh Date of Receipt 11/08/2022
Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2022/0203146 Grievance Concerns To Name Of Complainant Kiran Singh Date of Receipt 31/07/2022श्री मान जी जब क्षेत्राधिकारी को चौकी इंचार्ज से जवाब लगवानी थी तो प्रार्थिनी को क्यों कार्यालय बुलवाया गया क्षेत्राधिकारी द्वारा झूठा आश्वासन क्यों दिया गया की हम न्याय दिलाएंगे कम  से कम प्रार्थिनी कुछ पल के लिए यह विश्वास  गया की कुछ पुलिस कार्मिक ईमानदार भी है किन्तु वह हमारी  भूल थी हमारी पूर्व धारणा ही सही थी अब तो क्षेत्राधिकारी ने रजिस्ट्री पेपर का अवलोकन कर तो कम से कम अभी तो बता देते की वह जमीन प्रार्थिनी  की है श्री मान जी कृष्णा नगर पुलिस द्वारा प्रार्थिनी के परिवार को बंधक बना कर निजी रास्ते को कमला दयाल को कब्जा करवाया गया है Krishna Nagar police may remove encroachment from road which was encroached by offenders with help of them, then advise applicant as the offenders grabbed the private road of the applicant under the patronage of the concerned police.
कृष्णा नगर पुलिस उस सड़क से अतिक्रमण हटाए  जिस पर अपराधियों द्वारा उनकी मदद से अतिक्रमण किया गया था, फिर आवेदक को सलाह दें क्योंकि अपराधियों ने संबंधित पुलिस के संरक्षण में आवेदक की निजी सड़क पर कब्जा कर लिया है
The applicant has been the master of the road since 2005 and offenders grabbed the road just two months ago. Therefore earlier status quo be maintained by the police, then suggest offenders to obtain legitimate solutions. आवेदक 2005 से सड़क का मालिक है और अपराधियों ने दो महीने पहले ही सड़क हड़प ली थी। इसलिए पहले पुलिस द्वारा यथास्थिति बनाए जाने का प्रयास किया जाए, फिर अपराधियों को वैध समाधान प्राप्त करने का सुझाव दिया जाए क्योकि सड़क तो प्रार्थी का है ही जिसे सरकारी दस्तावेज और बाद का समझौता चीख चीख कर कह रहा है
Think about the credibility of the police report submitted by the concerned officer of the chief minister office.It was obligatory duty of the concerned police staff to immediately stop the construction work carried out by the sub inspector Kamala Dayal and then they had to suggest her if she was interested to revamp the road of the applicant, then she had to take the permission of the applicant or she had to take shelter of department of revenue. मुख्यमंत्री कार्यालय के संबंधित अधिकारी द्वारा प्रस्तुत पुलिस रिपोर्ट की विश्वसनीयता के बारे में सोचें संबंधित पुलिस कर्मचारियों का यह अनिवार्य कर्तव्य था कि वे उप निरीक्षक कमला दयाल द्वारा किए गए निर्माण कार्य को तुरंत रोकें होते और फिर उन्हें सुझाव देना था  कि यदि वह आवेदक की सड़क को सुधारने के लिए इच्छुक है , उन्हे  आवेदक की अनुमति लेनी थी  या उन्हें  राजस्व विभाग का आश्रय लेना था अपनी अधिकारिता सिद्ध करने के लिए
Now it is the duty of the police to demolish the constructed wall and vacate the disputed site from the submersible pumps and other objectionable material which was installed and established in caucus with police. अब पुलिस का कर्तव्य बनता है कि निर्मित दीवार को गिराकर विवादित स्थल को पुलिस के साथ  साठ गाठ कर के  स्थापित किए गए सबमर्सिबल पंप व अन्य आपत्तिजनक सामग्री से बिबादित स्थल को सम्बंधित पुलिस खाली कराएं
श्री मान जी कमला दयाल उपनिरीक्षक लोकल इंटेलिजेंस यूनिट जिस भू स्वामी से भू खंड खरीदा है वह दूसरा है और प्रार्थिनी द्वारा जमीन श्री मती शिमला देवी पत्नी राम सहाय यादव से श्री राम बालक यादब पुत्र श्री शंकर लाल निवासी अली नगर सुनहरा की मध्यस्थता में खरीदी गयी और इस रोड का बिबाद पूर्व में प्रार्थिनी और भू स्वामिनी के बीच में पैदा हुआ था जिसका निस्तारण एक समझौते के रूप में हुआ और वह समझौता खुद थाना-कृष्णा नगर, लखनऊ, उत्तर प्रदेश के थाना प्रभारी द्वारा दिनांक १४ अप्रैल २००५ को कराया गया जिसके गवाह श्री राम बालक यादब पुत्र श्री शंकर लाल निवासी अली नगर सुनहरा और प्रेम प्रकाश पुत्र मक्का लाल निवासी केसरीखेड़ा थे श्री मान समझौते के अनुसार १६ फ़ीट रास्ते को प्रार्थिनी किरन सिंह को दिया गया है उस पर भू स्वामिनी के सगे सम्बन्धी कभी कोई दावा नहीं करेंगे और किसी को बेचेंगे भी नहीं उसका इस्तेमाल प्रार्थिनी को करना है आप कभी कहते है की प्रार्थिनी का रोड और रास्ता सुरक्षित है और कभी कहते है १५ फ़ीट रास्ता है जिस पर
Grievance Document
Current Status
Grievance Received   
Date of Action
11/09/2022
Officer Concerns To
Forwarded to
Prime Ministers Office
Officer Name
Mukul Dixit ,Under Secretary (Public)
Organisation name
Prime Ministers Office
Contact Address
Public Wing 5th Floor, Rail Bhawan New Delhi
Email Address
us-public.sb@gov.in
Contact Number
011-23386447

2 Comments

Whatever comments you make, it is your responsibility to use facts. You may not make unwanted imputations against any body which may be baseless otherwise commentator itself will be responsible for the derogatory remarks made against any body proved to be false at any appropriate forum.

  1. मुख्यमंत्री कार्यालय के संबंधित अधिकारी द्वारा प्रस्तुत पुलिस रिपोर्ट की विश्वसनीयता के बारे में सोचें संबंधित पुलिस कर्मचारियों का यह अनिवार्य कर्तव्य था कि वे उप निरीक्षक कमला दयाल द्वारा किए गए निर्माण कार्य को तुरंत रोकें होते और फिर उन्हें सुझाव देना था कि यदि वह आवेदक की सड़क को सुधारने के लिए इच्छुक है , उन्हे आवेदक की अनुमति लेनी थी या उन्हें राजस्व विभाग का आश्रय लेना था अपनी अधिकारिता सिद्ध करने के लिए

    ReplyDelete
  2. Think about the credibility of the police in the state of Uttar Pradesh which do not perform any job without taking bribe from the parties and always indulge in the corrupt activities which prime function is to promote lalaness and anarchy in the society and most of the unlawful activities are taking place in the society because of the active cooperation of the police in the state of Uttar Pradesh.

    ReplyDelete
Previous Post Next Post