What is outcome of cleanly drive mission of Prime minister if lanes are not swept by sweepers in municipality Mirzapur city?

 


संदर्भ संख्या : 40019922010394 , दिनांक - 13 May 2022 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019922010394

आवेदक का नाम-Yogi M. P. Singhविषय-Whether it would be asked from the concerned sweeper that when did he sweep the lane because more than one week, I did not any one who swept the lane in Mohalla-Surekapuram under Dangahar ward of the municipality Mirzapur city. क्या संबंधित सफाईकर्मी से यह पूछा जाएगा कि उसने गली की सफाई कब की क्योंकि एक सप्ताह से अधिक समय से नगर पालिका मिर्जापुर शहर के डंगहार वार्ड अंतर्गत मोहल्ला-सुरेकापुरम में गली की सफाई करने वाला कोई नहीं है. Earlier it was decided that concerned staff of the municipality will sweep the lane daily but it is most unfortunate he has no time to clean the lane even in one week is the matter of main concern for us. पहले यह तय किया गया था कि नगर पालिका के संबंधित कर्मचारी प्रतिदिन गली की सफाई करेंगे लेकिन यह सबसे दुर्भाग्यपूर्ण है कि उनके पास एक सप्ताह में भी गली की सफाई का समय नहीं है, यह हमारे लिए मुख्य चिंता का विषय है I think that if the concerned supervisor will not keep his promise and will not remain sensitive to its duties what can be expected from his subordinates quite obvious from the laxity and insensitivity of the concerned staff. Undoubtedly a dog remains faithful to its master and redeem its few chapattis by rendering the services to master and keep alert vigil of the articles of the household but think about those who are not pursuing duties even after drawing huge remuneration from the public exchequer. मुझे लगता है कि यदि संबंधित पर्यवेक्षक अपना वादा नहीं निभाएगा और अपने कर्तव्यों के प्रति संवेदनशील नहीं रहेगा तो संबंधित कर्मचारियों की लापरवाही और असंवेदनशीलता से उनके अधीनस्थों से क्या उम्मीद की जा सकती है। निस्संदेह एक कुत्ता अपने मालिक के प्रति वफादार रहता है और अपनी कुछ चपातियों के बदले मालिक की सेवा करके और घर के सामानों की सतर्क निगरानी रखता है, लेकिन उन लोगों के बारे में सोचें जो सरकारी खजाने से भारी पारिश्रमिक प्राप्त करने के बाद भी कर्तव्यों का पालन नहीं कर रहे हैं श्री मान जी नाली की सफाई होना चाहिए और जहा पर नाली फसी है उसकी सफाई ढक्कन हटा कर करे एक तरफ बेरोजगारी और जिनको नौकरी मिल गई है वे कुछ करना ही नहीं चाहते है यही परेशानी की मुख्य वजह है यहा सरकारी मुलाजिम यह कहने गर्ब महसूस करता है की वह घर बैठ कर तनख्वाह लेता है सोचिये अकर्मण्यता को भी स्टेटस सिम्बल समझता है श्री मान सफाई नायक झब्बू लाल जी आप कहते है की हम रोज झाड़ू लगवाते है किन्तु आप संलग्न तस्वीरों का अवलोकन करे साफ की गई नाली का कीचड़ पिछले दो दिन से पड़ा है आज हट जाना चाहिए था और उसी के साथ सफाई का भी अवलोकन कर ले वैसे तो आप फिर लिख देंगे और वह आप की मजबूरी भी है किन्तु कल आप झाड़ू लगवाइए लिखने पर तो लगवाते है उस परंपरा को मत ख़त्म करिये सफाई कर्मचारी सुनते नहीं होंगे यह भी सच है उनके भी महासंघ है किन्तु पारिश्रमिक लेते है तो काम करना चाहिए लगता है रोज झाड़ू लगाने की बात महज दिवा स्वप्न है किन्तु इस बार हप्ते में एक बार झाड़ू लगाना हमे स्वीकार्य नहीं है क्यकि आवारा पशुओं की संख्या बहुत ज्यादा है ज्यादा गैप मत करिये स्वास्थ्य सही न होने के कारण हम रोज सड़क पर टहलते है इसलिए हमे कई दिन का गोबर रोड पर दिखाई पड़ा तो हम शिकायत करेंगे जनसुनवाई की शिकायत से आप लोग कष्ट में रहते है इसलिए मौका मत दीजिए मुझे लिखने का

Department -नगर पालिका परिषदComplaint Category -

नियोजित तारीख-20-05-2022शिकायत की स्थिति-

Level -नगर पालिका / नगर पंचायतPost -अधिशासी अधि‍कारी,नगर पंचायत /पालिका

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 13-05-2022 20-05-2022 अधिशासी अधि‍कारी,नगर पंचायत /पालिका -मिर्ज़ापुर अनमार्क

जनसुनवाई

समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली, उत्तर प्रदेश

सन्दर्भ संख्या:-  40019922010394

लाभार्थी का विवरण

नाम Yogi M. P. Singh पिता/पति का नाम

मोबइल नंबर(१) 7379105911 मोबइल नंबर(२)

आधार कार्ड न. ई-मेल myogimpsingh@gmail.com

पता Mohalla Surekapuram, Shree Lakshmi Narayan Baikunth Mahadev Mandir Jabalpur Road District Mirzapur

आवेदन पत्र का ब्यौरा

आवेदन पत्र का संक्षिप्त ब्यौरा Whether it would be asked from the concerned sweeper that when did he sweep the lane because more than one week, I did not any one who swept the lane in Mohalla-Surekapuram under Dangahar ward of the municipality Mirzapur city. क्या संबंधित सफाईकर्मी से यह पूछा जाएगा कि उसने गली की सफाई कब की क्योंकि एक सप्ताह से अधिक समय से नगर पालिका मिर्जापुर शहर के डंगहार वार्ड अंतर्गत मोहल्ला-सुरेकापुरम में गली की सफाई करने वाला कोई नहीं है. Earlier it was decided that concerned staff of the municipality will sweep the lane daily but it is most unfortunate he has no time to clean the lane even in one week is the matter of main concern for us. पहले यह तय किया गया था कि नगर पालिका के संबंधित कर्मचारी प्रतिदिन गली की सफाई करेंगे लेकिन यह सबसे दुर्भाग्यपूर्ण है कि उनके पास एक सप्ताह में भी गली की सफाई का समय नहीं है, यह हमारे लिए मुख्य चिंता का विषय है I think that if the concerned supervisor will not keep his promise and will not remain sensitive to its duties what can be expected from his subordinates quite obvious from the laxity and insensitivity of the concerned staff. Undoubtedly a dog remains faithful to its master and redeem its few chapattis by rendering the services to master and keep alert vigil of the articles of the household but think about those who are not pursuing duties even after drawing huge remuneration from the public exchequer. मुझे लगता है कि यदि संबंधित पर्यवेक्षक अपना वादा नहीं निभाएगा और अपने कर्तव्यों के प्रति संवेदनशील नहीं रहेगा तो संबंधित कर्मचारियों की लापरवाही और असंवेदनशीलता से उनके अधीनस्थों से क्या उम्मीद की जा सकती है। निस्संदेह एक कुत्ता अपने मालिक के प्रति वफादार रहता है और अपनी कुछ चपातियों के बदले मालिक की सेवा करके और घर के सामानों की सतर्क निगरानी रखता है, लेकिन उन लोगों के बारे में सोचें जो सरकारी खजाने से भारी पारिश्रमिक प्राप्त करने के बाद भी कर्तव्यों का पालन नहीं कर रहे हैं श्री मान जी नाली की सफाई होना चाहिए और जहा पर नाली फसी है उसकी सफाई ढक्कन हटा कर करे एक तरफ बेरोजगारी और जिनको नौकरी मिल गई है वे कुछ करना ही नहीं चाहते है यही परेशानी की मुख्य वजह है यहा सरकारी मुलाजिम यह कहने गर्ब महसूस करता है की वह घर बैठ कर तनख्वाह लेता है सोचिये अकर्मण्यता को भी स्टेटस सिम्बल समझता है श्री मान सफाई नायक झब्बू लाल जी आप कहते है की हम रोज झाड़ू लगवाते है किन्तु आप संलग्न तस्वीरों का अवलोकन करे साफ की गई नाली का कीचड़ पिछले दो दिन से पड़ा है आज हट जाना चाहिए था और उसी के साथ सफाई का भी अवलोकन कर ले वैसे तो आप फिर लिख देंगे और वह आप की मजबूरी भी है किन्तु कल आप झाड़ू लगवाइए लिखने पर तो लगवाते है उस परंपरा को मत ख़त्म करिये सफाई कर्मचारी सुनते नहीं होंगे यह भी सच है उनके भी महासंघ है किन्तु पारिश्रमिक लेते है तो काम करना चाहिए लगता है रोज झाड़ू लगाने की बात महज दिवा स्वप्न है किन्तु इस बार हप्ते में एक बार झाड़ू लगाना हमे स्वीकार्य नहीं है क्यकि आवारा पशुओं की संख्या बहुत ज्यादा है ज्यादा गैप मत करिये स्वास्थ्य सही न होने के कारण हम रोज सड़क पर टहलते है इसलिए हमे कई दिन का गोबर रोड पर दिखाई पड़ा तो हम शिकायत करेंगे जनसुनवाई की शिकायत से आप लोग कष्ट में रहते है इसलिए मौका मत दीजिए मुझे लिखने का

संदर्भ दिनांक 13-05-2022 पूर्व सन्दर्भ(यदि कोई है तो) 0,0

विभाग नगर विकास तथा नगरीय रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन शिकायत श्रेणी नगर पालिका नगर पंचायत में कूड़ा गंदगी साफ सफाई एवं सफाई कर्मी सम्बन्धी

लाभार्थी का विवरण/शिकायत क्षेत्र का

शिकायत क्षेत्र का पता तहसील- सदर, जिला- मिर्ज़ापुर

1 Comments

Whatever comments you make, it is your responsibility to use facts. You may not make unwanted imputations against any body which may be baseless otherwise commentator itself will be responsible for the derogatory remarks made against any body proved to be false at any appropriate forum.

  1. मुझे लगता है कि यदि संबंधित पर्यवेक्षक अपना वादा नहीं निभाएगा और अपने कर्तव्यों के प्रति संवेदनशील नहीं रहेगा तो संबंधित कर्मचारियों की लापरवाही और असंवेदनशीलता से उनके अधीनस्थों से क्या उम्मीद की जा सकती है। निस्संदेह एक कुत्ता अपने मालिक के प्रति वफादार रहता है और अपनी कुछ चपातियों के बदले मालिक की सेवा करके और घर के सामानों की सतर्क निगरानी रखता है, लेकिन उन लोगों के बारे में सोचें जो सरकारी खजाने से भारी पारिश्रमिक प्राप्त करने के बाद भी कर्तव्यों का पालन नहीं कर रहे हैं

    ReplyDelete
Previous Post Next Post