Pritesh and labourers claimed for wages Rs.40000 not being paid by using police to fabricate labourers under false charges ipso facto



Grievance Status for registration number : GOVUP/E/2023/0019847

Grievance Concerns To

Name Of Complainant

Pritesh Kumar

Date of Receipt

19/03/2023

Received By Ministry/Department

Uttar Pradesh

Grievance Description

To                                                               

                                         Assistant Labour Commissioner                                                                   

District-Mirzapur, Uttar Pradesh

Subject-To be instrumental in providing the wages of the labourers.

The matter concerns the working of the assistant labour commissioner Mirzapur as Minu Patel, Wife of Ram Kripal is not providing wages of the applicant and his two companions amounts Rs.40000. When the applicants demand the wages she is reaping the benefits of being women threatening to implicate the applicants under the charges of molestation by influencing the police.

Whether justice is not available to the oppressed section in the state of Uttar Pradesh?


The applicant has sent the representation to Assistant Labour Commissioner Mirzapur by registered which awaits swift action after proper The matter concerns the exploitation of the members of the oppressed section. Police may register a First Information Report in the matter against opposition for harassing the applicants belonging to the oppressed section.


प्रार्थी का नाम प्रितेश कुमार पिता का नाम लालचंद निवासी डगहर पथरहिया मिर्जापुर मोबाइल नंबर 6393 8787 90


विपक्षी का नाम मीनू पटेल पति का नाम रामकृपाल निवासी बथुआ थाना कोतवाली कटरा जनपद मिर्जापुर मोबाइल नंबर 89573 4 7760


श्रीमान जी प्रार्थी द्वारा पुलिस कप्तान को दिनांक 17 फरवरी 2023 को शिकायती प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया गया जिसमें कि प्रार्थी द्वारा यह बताया गया कि प्रार्थी की कुल मजदूरी ₹40000 है जो कि विपक्षी द्वारा नहीं दिया जा रहा है किंतु दुर्भाग्य की बात यह है कि पुलिस की तरफ से कोई कार्यवाही नहीं हुई हमारे पत्र पर और उल्टा पुलिस द्वारा खुद प्रार्थी के विरुद्ध भारतीय दंड विधान के कई धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया जोकि पुलिस के पक्षपात रवैया को दर्शाता है प्रार्थी दलित जाति का व्यक्ति है बहुत गरीब है मजदूरी करके जीवन यापन करता है प्रार्थी ने विपक्षी का घर बनाया है जो कि इस मौके वारदात का निरीक्षण करने के बाद स्पष्ट हो सकता है किंतु पुलिस द्वारा समस्त प्रमाणों को दरकिनार करके प्रार्थी को झूठे मुकदमों में उलझाया जा रहा है पुलिस की कार्यशैली स्पष्ट रूप से संदिग्ध है पुलिस प्रार्थी के पर दबाव बनाकर भिन्न-भिन्न धाराओं में केस झूठे केस लगाकर ₹40000 माफ करा कर समझौते में 16 कराना चाहती है श्रीमान जी प्रार्थना पत्र के साथ प्रार्थी का फोटो संलग्न है जिस पर किसी भी चोट इतिहास के निशान नहीं है क्योंकि प्रार्थी को यह भय है कि पुलिस दबाव बनाने के लिए प्रार्थी को हिरासत में लेकर थर्ड डिग्री का इस्तेमाल कर सकती है इसलिए प्रार्थी न्याय पाने के लिए की पुलिस कानून को हाथ में ना लें इसलिए यह प्रार्थना पत्र श्रीमान जी की सेवा में प्रेषित कर रहा है


महोदय प्रार्थी आपसे अपेक्षा करता है कि आप नियमानुसार कार्यवाही करें और योगी के इस ईमानदार शासन में प्रार्थी की मजदूरी दिलाने का kasht kare

Current Status

Grievance received   

Date of Action

19/03/2023

Officer Concerns To

Forwarded to

Uttar Pradesh

Officer Name

Shri Bhaskar Pandey (Joint Secretary)

Organisation name

Uttar Pradesh

Contact Address

Chief Minister Secretariat , Room No. 321, U.P. Secretariat, Lucknow

Email Address

bhaskar.12214@gov.in

Contact Number

05222226350

Yogi

An anti-corruption crusader. Motive to build a strong society based on the principle of universal brotherhood. Human rights defender and RTI activist. Working for the betterment of societies and as an anti-corruption crusader for more than 25 years. Our sole motive is to raise the voices of weaker and downtrodden sections of the society and safeguard their human rights. Our motive is to promote the religion of universal brotherhood among the various castes communities of different religions. Man is great by his deeds and character.

Post a Comment

Whatever comments you make, it is your responsibility to use facts. You may not make unwanted imputations against any body which may be baseless otherwise commentator itself will be responsible for the derogatory remarks made against any body proved to be false at any appropriate forum.

Previous Post Next Post