C.M.O. Mirzapur says corruption concerns working of CMS women hospital and CMS dispose of grievance by quoting concerns with CMO

 



संदर्भ संख्या : 40019923003531 , दिनांक - 25 Feb 2023 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019923003531

आवेदक का नाम-Yogi M P Singhविषय-संदर्भ संख्या 40019923003222 , दिनांक - 21 Feb 2023 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण शिकायत संख्या -40019923003222 आवेदक का नाम-Yogi M P Singh अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 16-02-2023 मुख्‍य चिकित्‍सा अधीक्षकअधीक्षिकामहिला-मिर्ज़ापुर,चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण 19-02-2023 आवेदक कृपया अवगत हो एम०सी०एच० विंग पी०पी०पी० मोड पर संचालित है‚ कृपया मुख्य चिकित्सधिकारी‚ मीरजापुर से संम्पर्क स्थापित कर समस्या का निराकरण करायें। निस्तारित विषय-Dhiraj Singh alleged that MCH wing of Government women hospital is the centre to refer the patients to private hospitals and earns commission. The matter concerns Mahima Singh, 31 years old, wife of Dhiraj Singh who was admitted in the MCH wing of the government women hospital concerned with the women hospital of the government located at Rambagh, district Mirzapur. 

महोदय क्या यह उचित है कि भ्रष्टाचार के इस प्रकरण को इस आधार पर बंद कर दिया जाए कि प्रकरण का संबंध मुख्य चिकित्सा अधिकारी मिर्जापुर से है। श्रीमान जी क्या यही ईमानदारी है योगी सरकार की जोकि ईमानदारी के बड़े-बड़े दावे करती है। यह सच है कि महिला चाइल्ड विंग जोकि जिला महिला अस्पताल से संबंधित है पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप की थिअरी पर आधारित है। किंतु महिला अस्पताल का यह दिन अपने यहां आए हुए मरीजों को सिर्फ रिफर करता है निजी अस्पतालों में। महोदय क्या इस महिला चाइल्ड विंग को इसी उद्देश्य के लिए खोला गया था कि यह अपने यहां आए मरीजों को निजी अस्पतालों में रेफर करके फिर उन्हीं डॉक्टरों से जो रीफर करते हैं वहां जाकर डिलीवरी कराएंगे। सोचिए ₹40000 लग गया जबकि अगर प्रयास करते तो डिलीवरी बिना ऑपरेशन के हो सकती थी किंतु जब वसूली करना है तो सारे सिद्धांत खत्म हो जाते हैं ‌। महोदय इस अस्पताल का उद्घाटन हमारे सांसद अनुप्रिया पटेल जी ने किया था और यह मिर्जापुर के विकास में एक कड़ी के रूप में जाना जाता है किंतु यहां इलाज नहीं होता है बल्कि मरीजों को निजी अस्पतालों में रेफर किया जाता है यही इस योगी सरकार की इमानदारी है । श्रीमान जी इस तरह का विकास मिर्जापुर के लोगों को नहीं चाहिए जिसकी वजह से ₹40000 सिर्फ डिलीवरी में खर्च हो जाए। श्रीमान जी प्रकरण को मुख्य चिकित्सा अधिकारी मिर्जापुर के पास भेजा जाए निस्तारण वास्ते और इस तरह से बंद न किया जाए नहीं तो भ्रष्टाचार का बहुत बड़ा संकेत है। 

Sir, is it appropriate that this case of corruption should be closed on the basis that the case is related to the Chief Medical Officer, Mirzapur. Sir, is this the honesty of the Yogi government which makes tall claims of honesty. It is true that the Women Child Wing, which is related to the District Women Hospital, is based on the theory of Public Private Partnership. But on this day, the Women child wing Hospital only refers the patients who come here to private hospitals. Sir, was this women child wing opened for the purpose that it would refer the patients coming here to private hospitals and then go to the same doctors who refer them and get them delivered there. Think ₹ 40000 was spent, whereas if they had tried, the delivery could have been done without operation, but when extortion is to be done, all the principles end. Sir, this hospital was inaugurated by our MP Anupriya Patel and it is known as a link in the development of Mirzapur, but treatment is not done here, rather patients are referred to private hospitals, this is the honesty of this Yogi government. . Sir, the people of Mirzapur do not want this kind of development, due to which ₹ 40000 is spent only in delivery. Sir, the case should be sent to the Chief Medical Officer, Mirzapur for disposal and should not be closed in this way, otherwise it is a big sign of corruption.

विभाग -चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याणशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-08-03-2023शिकायत की स्थिति-

स्तर -जनपद स्तरपद -मुख्य चिकित्साधिकारी

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक24-02-2023 को फीडबैक:-श्रीमान जी आप खुद सोचिए मुख्य चिकित्सा अधीक्षक का महिला अस्पताल जिला मिर्जापुर द्वारा यह कहा गया कि यह हॉस्पिटल पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप पर आधारित है इसके लिए प्रार्थी को मुख्य चिकित्सा अधिकारी से संपर्क करना चाहिए और मुख्य चिकित्सा अधिकारी महोदय यह कह रहे हैं कि प्रार्थी को मुख्य चिकित्सा अधीक्षक का राजकीय महिला चिकित्सालय मिर्जापुर से संपर्क करना चाहिए क्या यह विरोधाभास नहीं है और इससे बड़ी अराजकता क्या होगी सभी लोग अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं यही भ्रष्टाचार है इसके अलावा भ्रष्टाचार का कोई दूसरा स्वरूप नहीं हो सकता है

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अधीनस्थ द्वारा प्राप्त आख्या :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी अग्रसारित दिनांक आदेश आख्या देने वाले अधिकारी आख्या दिनांक आख्या स्थिति आपत्ति देखे संलगनक

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 21-02-2023 मुख्य चिकित्साधिकारी-मिर्ज़ापुर,चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण 24-02-2023 AKHYA SANLAGN HAI निस्तारित

To see attached document, visit the link by clicking on it

Beerbhadra Singh

To write blogs and applications for the deprived sections who can not raise their voices to stop their human rights violations by corrupt bureaucrats and executives.

Post a Comment

Whatever comments you make, it is your responsibility to use facts. You may not make unwanted imputations against any body which may be baseless otherwise commentator itself will be responsible for the derogatory remarks made against any body proved to be false at any appropriate forum.

Previous Post Next Post