Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2022/0241269
Grievance Concerns To Name Of Complainant Om Prakash Dubey
Date of Receipt 13/09/2022
Received By Ministry/Department Prime Ministers Office
Grievance Description

श्री मान जी प्रकरण का सम्बन्ध उपजिलाधिकारी कार्यालय में मुकदमो के निपटारे में ब्याप्त घूसखोरी और अराजकता है और जो बहुत बड़े स्तर पर है जिसमे गरीब इंसान पिस कर रह जाता है श्री मान जी इस भ्र्ष्टाचार को रोकने की आवश्यकता है सोचिये आपत्ति को गायब कर दिया गया और आपत्ति न दाखिल करने का आधार बना कर मुकदमा ख़ारिज कर दिया गया और पुलिस भय बस उपजिलाधिकारी के विरुद्ध जांच नहीं कर रही है

Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2022/0218071

Grievance Concerns To

Name Of Complainant Om Prakash Dubey

Date of Receipt 17/08/2022 Received By Ministry/Department Prime Ministers Office

चूकि आवेदक उपरोक्त में संलग्नक नहीं जोड़ पाया था इसलिए निम्न शिकायत पुनः प्रस्तुत किया प्रधान मंत्री महोदय के पोर्टल पर

Grievance Status for registration number : PMOPG/E/2022/0218076 Grievance Concerns To Name Of Complainant Om Prakash Dubey

Date of Receipt 17/08/2022

Received By Ministry/Department Prime Ministers Office

Grievance Description Your Communication has been registered with registration number: PMOPG/E/2022/0218071, documents attached, could not be uploaded because of website error messages.

उपरोक्त विवरण, पुलिस रिपोर्ट और संगत दस्तावेज शिकायत के साथ संलग्न है

श्री मान जी सोमवार को अर्थात कल प्रार्थी को पुलिस चौकी कचहरी शहर कोतवाली मीरजापुर ने बुलाया था किन्तु वे नहीं मिले व्यस्तता का बहाना करके और आज फिर बुलाया है श्री मान जी अनिल कुमार चौकी प्रभारी कचहरी कोतवाली शहर जिला मिर्ज़ापुर ने प्रार्थी को क्यों आज फिर बुलाया है प्रार्थी के समझ से परे है क्योकि आख्या तो उन्होंने ०९ सितम्बर २०२२ को ही प्रस्तुत कर दी थी अर्थात उनको करना कुछ नहीं सिर्फ प्रार्थी को परेशान करना था श्री मान जी क्या प्रार्थी का आज उनसे मिलना उचित है और फिर वह कहेंगे बुधवार को आना


श्री मान जी अनिल कुमार चौकी प्रभारी कचहरी कोतवाली शहर जिला मिर्ज़ापुर ने अपनी जांच में कहा की उपजिलाधिकारी सदर महोदय एवं उनके रीडर से उनकी बात बात हुई तो उन्होंने बताया की पत्रावली मंगला प्रसाद दुबे के पास है और दाखिल दप्तर है तथा कोई भी कागजात गायब नहीं है आवेदक द्वारा लगाए गए आरोपों की पुष्टि नहीं हो पा रही है फिर उन्होंने फालतू बकबास किया है की आवेदक मुकदमे में पक्षकार होने के नाते मुकदमा हारने की वजह से बेबुनियाद आरोप लगाया है महोदय प्रार्थी ने जो आरोप लगाए उनके असत्य सिद्ध होने पर प्रार्थी अवमानना की कार्यवाही से दण्डित हो सकता है जिसका उसे ज्ञान है किन्तु प्रार्थी द्वारा लगाए गए आरोप तो प्रार्थी द्वारा प्रस्तुत दस्तवेजो से ही स्वतः सिद्ध है उसके लिए किसी जांच की और गवाहों की आवश्यकता ही नहीं है सिर्फ संलग्न दस्तावेजों के अवलोकन की आवश्यकता है यह पर बात को संज्ञान में लेने की आवश्यकता है की उपजिलाधिकारी सदर महोदय ने उनको दस्तावेजों के जांच की अनुमति इस आधार पर नहीं दी की दस्तावेज दाखिल दप्तर हो गए है और उपरोक्त उपजिलाधिकारी सदर महोदय एवं उनके रीडर खुद ही दस्तावेजों के गायब करने के दोषी है कभी चोर यह कहता है की वह चोर है मामले में लगा रिपोर्ट आधार हीं असंगत और मनमाना है

If the records lost are considered as evidence in a case, then missing of the record would be a serious crime of destroying the evidence and invites criminal complaint against those officials under sections 201 of IPC, punishable with imprisonment from 7 to 10 years or life which is directly proportional to seriousness of the offence charged.

To direct the police to register F.I.R. against additional sub divisional magistrate Sadar and his reader for hatching conspiracy for missing the court records in the matter of Surya Narayan Dubey Versus Uma Shankar Dubey and others.

Case number-202116530000251 under section 176 year-2006.

Brief description of matter is as follows.

1-Copy of order made by additional sub divisional magistrate Sadar Siddharth Yadav is attached as page 2 of the attached PDF document. He passed an order that the opposition party did not submit an objection consequently the claim of litigant is accepted.

2-Copy of order sheet made available by the concerned court on 08/08/2022 is the fourth page of attached document which categorically shows that objection with affidavit submitted by Aditya Narayan Dubey on 18 March 2019 and because of strike by the advocates next date fixed on 01 April

Grievance Document

Current Status

Case closed

Date of Action

03/10/2022

Remarks

महोदय, जाँच आख्या संलग्न है शिकायतकर्ता उपरोक्त की जांच आख्या संलग्न है

Reply Document

Rating

1

Poor

Rating Remarks

The difference in the report submitted by the concerned investigation officer, अनिल कुमार चौकी प्रभारी कचहरी कोतवाली शहर जिला मिर्ज़ापुर and later on by the circle officer city Prabhat RAI, शहर क्षेत्राधिकारी मिर्ज़ापुर प्रभात राय is former hand writted and latter computer typed. It is confirmed that basic formalities to summon the parties were also not fulfilled by the circle officer. Office of the circle officer city Prabhat Ray did not bother to call aggrieved applicant Om Prakash Dubey to know his viewpoints before submitting the copy of the earlier submitted report of investigation officer, अनिल कुमार चौकी प्रभारी कचहरी कोतवाली शहर जिला मिर्ज़ापुर under the signature of circle officer city Prabhat Ray. Whether such negligence can be expected from a police officer of circle officer rank who is commissioned officer. Sir, the applicant may not dare to raise the matter if there may not be solid evidence of wrongdoings. It is a humble request to monitoring bodies that

Officer Concerns To

Officer Name

Shri Bhaskar Pandey (Joint Secretary)

Organisation name

Government of Uttar Pradesh

Contact Address

Chief Minister Secretariat , Room No. 321, U.P. Secretariat, Lucknow

Email Address

bhaskar.12214@gov.in

Contact Number

05222226350