Ticker

6/recent/ticker-posts

Think about the gravity of situation that 5 hours breakdown in supply of electricity is made 5 minutes what a copy of our great leader

 


संदर्भ संख्या : 60000220118605 , दिनांक - 01 Aug 2022 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-60000220118605

आवेदक का नाम-Yogi M. P. Singhविषय-The matter concerns power station jangi road district Mirzapur comes under the ambit of electricity distribution division second district Mirzapur. मामला बिजली स्टेशन जंगी रोड जिला मिर्जापुर से संबंधित है जो बिजली वितरण मंडल द्वितीय जिला मिर्जापुर के दायरे में आता है अर्थात EDD द्वितीय का क्षेत्राधिकार है It is most surprising that both the Yogi and Modi sir are saying that they are providing electricity supply 24 hours daily but the factual position is that there are continuous breakdown in the supply of electricity since yesterday. Whether 24 hours supply of electricity is only election rhetoric? सबसे आश्चर्य की बात यह है कि योगी और मोदी साहब दोनों कह रहे हैं कि वे 24 घंटे बिजली आपूर्ति कर रहे हैं, लेकिन वास्तविक स्थिति यह है कि कल से बिजली की आपूर्ति में लगातार खराबी आ रही है. क्या 24 घंटे बिजली की आपूर्ति महज चुनावी बयानबाजी है? श्री मान जी सुबह पांच बजे से विद्युत् आपूर्ति बाधित है किन्तु अभी कुछ कारण बता कर २० घंटे से ऊपर विद्युत् आपूर्ति बतायेगे जैसा की अन्य रिपोर्टो में करते आये है Whether our leaders including P.M. and C.M. are liars regarding 24 hours supply of electricity proved by the report of Executive engineer attached to grievance?क्या हमारे नेताओं जिसमे पी.एम. और सी.एम. भी शामिल है जो २४ घंटे विद्युत आपूर्ति का दावा करते है शिकायत से जुड़ी अधिशाषी अभियंता की रिपोर्ट से 24 घंटे बिजली आपूर्ति के संबंध में झूठे साबित नहीं हो रहे हैं? Everyone knows that if there will be overload in the supply then wires will be burnt and conductors will also burn. There must be equilibrium between supply and consumption of electricity and here the increase in the consumption of electricity is because of the theft of electricity. On the one side of screen to control the theft of the electricity Uttar Pradesh Power corporation limited promotes the installation of the electric meters outside of the premises so that there maybe transparency and accountability in measuring the readings of the electric metre but on the other side of his screen certain staff at the department of electricity itself promoting the connection holders to keep their electric metres inside the premises so that corruption may be proliferated. Here this question arises as to why the electric metres are installed inside the premises of the connection holders when there is an obvious guideline of the Uttar Pradesh Power corporation limited to install the electric metres. सभी जानते हैं कि अगर आपूर्ति में ओवरलोड होगी तो तार जलेंगे और कंडक्टर भी जलेंगे। बिजली की आपूर्ति और खपत के बीच संतुलन होना चाहिए और यहां बिजली की खपत में वृद्धि बिजली की चोरी के कारण होती है। परदे के एक तरफ बिजली की चोरी को नियंत्रित करने के लिए उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड परिसर के बाहर बिजली के मीटर की स्थापना को बढ़ावा देता है ताकि बिजली मीटर की रीडिंग को मापने में पारदर्शिता और जवाबदेही हो लेकिन दूसरी तरफ उनके बिजली विभाग के भ्रष्ट कर्मचारी ही कनेक्शन धारकों को परिसर के अंदर अपने बिजली के मीटर रखने के लिए प्रोत्साहित करते हैं ताकि भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिल सके। यहां यह सवाल उठता है कि कनेक्शन धारकों के परिसरों के अंदर बिजली के मीटर क्यों लगाए जाते हैं जबकि बिजली के मीटर लगाने के लिए उत्तर प्रदेश विद्युत निगम लिमिटेड की स्पष्ट गाइडलाइन है। Whether it is not the mockery of the promises made by our prime minister Mr Narendra Damodar Modi sir and our chief minister Yogi Adityanath sir who had made the promise during the campaign of election that they will provide 24 hours electricity to the people in the state. Since yesterday there are frequent disruption in the supply of electricity causing disturbance in the daily routine of the people and continuous complaints are being made but concerned accountable public functionaries are not paying any heed to the grievances of the people in the state of Uttar Pradesh.

विभाग -ऊर्जा विभागशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-04-08-2022शिकायत की स्थिति-

स्तर -शासन स्तरपद -अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अधीनस्थ द्वारा प्राप्त आख्या :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी अग्रसारित दिनांक आदेश आख्या देने वाले अधिकारी आख्या दिनांक आख्या स्थिति आपत्ति देखे संलगनक

1 अंतरित लोक शिकायत अनुभाग -3(, मुख्यमंत्री कार्यालय ) 20-07-2022 कृपया शीघ्र नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की गई है। अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव -ऊर्जा विभाग 01-08-2022 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित

2 अंतरित अपर मुख्य सचिव/प्रमुख सचिव/सचिव (ऊर्जा विभाग ) 22-07-2022 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें प्रबन्ध निदेशकजोन -पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम 01-08-2022 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित

3 अंतरित प्रबन्ध निदेशक (उ.प्र.पावर कारपोरेशन लि. ) 23-07-2022 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें मुख्य अभियन्तामण्डल -मिर्ज़ापुर,विद्युत 01-08-2022 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित

4 अंतरित मुख्य अभियन्ता (विद्युत ) 26-07-2022 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें अधीक्षण अभियन्ता -मिर्ज़ापुर,विद्युत 01-08-2022 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित

5 अंतरित अधीक्षण अभियन्ता (विद्युत ) 28-07-2022 नियमनुसार आवश्यक कार्यवाही करें अधिशासी अभियंता , खंड - 2-मिर्ज़ापुर,विद्युत 01-08-2022 अधीनस्थ अधिकारी के स्तर पर निस्तारित निक्षेपित

6 अंतरित अधिशासी अभियंता , खंड - 2 (विद्युत ) 29-07-2022 आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें उप खण्‍ड अधि‍कारी-सदर,जनपद-मिर्ज़ापुर,विद्युत 01-08-2022 स्थानीय स्तर पर तकनीकी समस्या उत्पन्न होने के कारण विधुत आपूर्ति में व्यवधान उत्पन्न हुआ था निस्तारित