Dereliction of duty reported to senior rank of officers of police department in the matter of Sudarshan Maurya

 




संदर्भ संख्या : 40019921009611 , दिनांक - 13 Jun 2021 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019921009611

आवेदक का नाम-Sudarshan Mauryaविषय-Sir justice delayed is justice denied. Applicant is pursuing the matter diligently,  but the concerned police personnel is not taking the matter seriously. Applicant was provided public aid, but contractor destroyed the efforts of not only applicant but our government as well. O God save us from clutches of this anarchy.संदर्भ संख्या : 40019921009345 , दिनांक - 09 Jun 2021 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या:-40019921009345आवेदक का नाम-Sudarshan Mauryaविषय-Police instead of carrying out investigation in transparent and accountable manner on the application of the applicant submitted before the in charge of Chauki Mandi Samiti under Kotwali Katara District Mirzapur quite obvious from page 1 and 2 of the attached annexure, they are showing the application of Yakoob Ansari without address of the applicant attached as page 3 to this PDF attachment to this representation submitted on this august portal of the government. Please direct the police concerned to carry out an enquiry in a transparent and accountable manner instead of  putting carpet on the entire matter through cryptic working style. Think about the gravity of situation that police concerned took application of Yakoob Ansari without verifying address which means the role of police concerned is under cloud.  Description of room constructed by the contractor under controversy.अभी 2 महीने पहले हम ने एक 22'×35'  फीट का हाल बनवाया दरी का कार्य करने के लिए कर्ज लेकर रोजी रोटी के लिए लेकिन ठेकेदार की लापरवाही से हमारे नवनिर्मित हाल का छत का एक लिटंर 10 जगह से और दुसरा लिंटर 8 जगह से क्रेक कर गया । हम  इन्जीनियर को बुला कर दिखवाए तो मालुम हुआ की ठेकेदार की लापरवाही से सरिया और बीम का लटक कम बनाने की वजह से क्रैक हुआ है । हमने सीमेन्ट, सरिया, बालू सभी उच्च क्वालिटी का लगाया ठेकेदार की वजह से इतना बड़ा नुकसान हो गया क्या करें की कानून के दायरे में आ जाय और हम 7 लाख के नुकसान से बच जाए सलाह दे और हेल्प करें इस आदमी का नाम याकूब अंसारी है यह जिला - मीरजापुर में मकान बनाने का ठेकेदार है रहने वाला बिहार का है हमने इस आदमी से अपना मकान बनवाया इस ठेकेदार की लापरवाही से मेरे मकान का 2 बीम  2 महीने के अन्दर एक बीम 10 जगह से और दुसरा बीम  8 जगह से क्रैक हो गया और मकान गिरने के कगार पर पहचान गया है । पुलिस उच्चाधिकारियों  से निवेदन है कि इस ठेकेदार ने  मकान बनाने का कार्य बहुत ही लापरवाही से किया मेरा  मकान कभी भी गिर सकता है और मेरा  पैसे की और जान - माल  की हानि हो सकती है मेरे  1 बिस्वा के मकान में रू 8 लाख का नुकसान हो गया  हे ईश्वर मेरे और मेरे परिवार की रक्षा करे मेरा नाम-  सुदर्शन मौर्य पता- सोहता अडडा जंगीरोड, मीरजापुर  मो- 9455024500 विभाग -पुलिसशिकायत श्रेणी - नियोजित तारीख-09-07-2021शिकायत की स्थिति- स्तर -क्षेत्राधिकारी स्तरपद -क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त

विभाग -पुलिसशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-20-06-2021शिकायत की स्थिति-

स्तर -थाना स्तरपद -थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षक

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 13-06-2021 20-06-2021 थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षक-कोतवाली कटरा,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस अनमार्क


संदर्भ संख्या : 40019921009345 , दिनांक - 13 Jun 2021 तक की स्थिति

आवेदनकर्ता का विवरण :

शिकायत संख्या:-40019921009345

आवेदक का नाम-Sudarshan Mauryaविषय-Police instead of carrying out investigation in transparent and accountable manner on the application of the applicant submitted before the in charge of Chauki Mandi Samiti under Kotwali Katara District Mirzapur quite obvious from page 1 and 2 of the attached annexure, they are showing the application of Yakoob Ansari without address of the applicant attached as page 3 to this PDF attachment to this representation submitted on this august portal of the government. Please direct the police concerned to carry out an enquiry in a transparent and accountable manner instead of  putting carpet on the entire matter through cryptic working style. Think about the gravity of situation that police concerned took application of Yakoob Ansari without verifying address which means the role of police concerned is under cloud.  Description of room constructed by the contractor under controversy.अभी 2 महीने पहले हम ने एक 22'×35'  फीट का हाल बनवाया दरी का कार्य करने के लिए कर्ज लेकर रोजी रोटी के लिए लेकिन ठेकेदार की लापरवाही से हमारे नवनिर्मित हाल का छत का एक लिटंर 10 जगह से और दुसरा लिंटर 8 जगह से क्रेक कर गया । हम  इन्जीनियर को बुला कर दिखवाए तो मालुम हुआ की ठेकेदार की लापरवाही से सरिया और बीम का लटक कम बनाने की वजह से क्रैक हुआ है । हमने सीमेन्ट, सरिया, बालू सभी उच्च क्वालिटी का लगाया ठेकेदार की वजह से इतना बड़ा नुकसान हो गया क्या करें की कानून के दायरे में आ जाय और हम 7 लाख के नुकसान से बच जाए सलाह दे और हेल्प करें इस आदमी का नाम याकूब अंसारी है यह जिला - मीरजापुर में मकान बनाने का ठेकेदार है रहने वाला बिहार का है हमने इस आदमी से अपना मकान बनवाया इस ठेकेदार की लापरवाही से मेरे मकान का 2 बीम  2 महीने के अन्दर एक बीम 10 जगह से और दुसरा बीम  8 जगह से क्रैक हो गया और मकान गिरने के कगार पर पहचान गया है । पुलिस उच्चाधिकारियों  से निवेदन है कि इस ठेकेदार ने  मकान बनाने का कार्य बहुत ही लापरवाही से किया मेरा  मकान कभी भी गिर सकता है और मेरा  पैसे की और जान - माल  की हानि हो सकती है मेरे  1 बिस्वा के मकान में रू 8 लाख का नुकसान हो गया  हे ईश्वर मेरे और मेरे परिवार की रक्षा करे मेरा नाम-  सुदर्शन मौर्य पता- सोहता अडडा जंगीरोड, मीरजापुर  मो- 9455024500

विभाग -पुलिसशिकायत श्रेणी -

नियोजित तारीख-09-07-2021शिकायत की स्थिति-

स्तर -क्षेत्राधिकारी स्तरपद -क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त

प्राप्त रिमाइंडर-

प्राप्त फीडबैक -दिनांक को फीडबैक:-

फीडबैक की स्थिति -

संलग्नक देखें -Click here

नोट- अंतिम कॉलम में वर्णित सन्दर्भ की स्थिति कॉलम-5 में अंकित अधिकारी के स्तर पर हुयी कार्यवाही दर्शाता है!

अग्रसारित विवरण :

क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 09-06-2021 09-07-2021 क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त-क्षेत्राधिकारी , नगर ,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस अधीनस्थ को प्रेषित

2 अंतरित क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त (पुलिस ) 09-06-2021 09-07-2021 थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षक-कोतवाली कटरा,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें कार्यालय स्तर पर लंबित

4 Comments

Whatever comments you make, it is your responsibility to use facts. You may not make unwanted imputations against any body which may be baseless otherwise commentator itself will be responsible for the derogatory remarks made against any body proved to be false at any appropriate forum.

  1. क्र.स. सन्दर्भ का प्रकार आदेश देने वाले अधिकारी प्राप्त/आपत्ति दिनांक नियत दिनांक अधिकारी को प्रेषित आदेश स्थिति

    1 अंतरित ऑनलाइन सन्दर्भ 09-06-2021 09-07-2021 क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त-क्षेत्राधिकारी , नगर ,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस अधीनस्थ को प्रेषित

    2 अंतरित क्षेत्राधिकारी / सहायक पुलिस आयुक्त (पुलिस ) 09-06-2021 09-07-2021 थानाध्‍यक्ष/प्रभारी नि‍रीक्षक-कोतवाली कटरा,जनपद-मिर्ज़ापुर,पुलिस आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें एवं आख्या प्रेषित करें कार्यालय स्तर पर लंबित

    ReplyDelete
  2. Here it is quite obvious that police is adopting lackadaisical approach to deal with the matter because of Nexus between the cheater and police which is quite obvious from the dereliction of duty of the concerned police personal which is quite obvious from the procrastination.
    Here cunning treatment of the concerned contractor caused the huge loss to the poor individual who is making representation against the the dereliction of the contractor and seeking damages from the contractor.

    ReplyDelete
  3. It is obligatory duty of the accountable public functionaries to keep the integrity of the police intact but it seems that our public functionaries are not worried about the dignity of the police but they are worried about their back door income and anyhow they are indulged in those activities which may promote their back door income which is the root cause of this anarchy and lawlessness in the department of police in the state of Uttar Pradesh.

    ReplyDelete
  4. If you want to seek justice from the police then you should have money in your pocket otherwise never think to seek justice in the state through the police in the Government of Uttar Pradesh. Here Laxity on the part of police is because of the rampant corruption prevailed through out the department of Police in the Government of Uttar Pradesh.
    Carrying out investigation on the application of the aggrieved people they/police invite the counter application from the opposition by colluding with them and thus deprieved needy of the justice.

    ReplyDelete
Previous Post Next Post