Whether government of Yogi Aditya Nath will take action on the corruption of L.D.A.?

Image
  संदर्भ संख्या : 60000210036255 , दिनांक - 24 Feb 2021 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या :- 60000210036255 आवेदक का नाम - Yogi M P Singh विषय - An application under Article 51 A of the constitution of India. संदर्भ संख्या : 60000210010604 , दिनांक – 13 Feb 2021 तक की स्थिति आवेदनकर्ता का विवरण : शिकायत संख्या :-60000210010604 आवेदक का नाम - Yogi M P Singh In the aforementioned matter, an arbitrary report submitted by the public authority Lucknow Development Authority even when the matter concerns the deep rooted corruption. Detail attached to grievance to take appropriate action in the matter as requires under the law. If necessary contact me on my my mobile number-7379105911. Please adopt cogent approach in the matter. प्रकरण का सम्बन्ध उ 0 प्र 0 सरकार से नहीं है महोदय यह शब्द और वाक्य यह बता रहे है की उत्तर प्रदेश में कानून का राज्य नहीं है क्यों की हर नौकरशाह अपने आप की नौकर तो समझता ही नहीं है

Because of corruption S.D.M. Sadar interfered in the proceedings of the civil court committed contempt

 















Comments

  1. उपजिलाधिकारी महोदय को आंग्ल भाषा का थोड़ा भी ज्ञान नहीं है इसलिए उन्होंने वही दिसंबर की रिपोर्ट को जनवरी के आख्या में दुहराया है जब की यह प्रकरण खुद उपजिलाधिकारी को ही बिधि विरुद्ध कार्यवाही करने का दोषी मानता है और आरोप खुद उपजिलाधिकारी के विरुद्ध है क्यों की पुलिस की कार्यवाही उपजिलाधिकारी के आज्ञा के अधीन है इसलिए पुलिस दोषी नहीं है बल्कि न्यायाल के क्षेत्राधिकार में उपजिलाधिकारी द्वारा अतिक्रमण किया गया है भू माफिया से साथ मिलकर जो की भ्रष्टाचार को दर्शाता है

    ReplyDelete
  2. It is reflection of rampant corruption

    ReplyDelete
  3. उप जिलाधिकारी महोदय जब मलाई काटना था उस समय आप की कलम चल रही थी किंतु जब वास्तव में जवाब देने का समय आया तो आपकी कलम रुक गई क्या सच्चाई है स्पष्ट करें

    ReplyDelete

Post a comment

Popular posts from this blog

Government must curb the arbitrary dealings of the HostGator company as looting consumers in broad day light

Whether hostgator like companies are not looting by colluding with corrupt people in India?